नयी दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चन्द्रबाबू नायडू जानते हैं कि उनके राजनीतिक सितारे गर्दिश की ओर जा रहे हैं और इसलिए वह सुर्खियां बटोरने के लिए हताशा में नौटंकी पर उतर आये हैं. तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के प्रमुख नायडू आंध्र प्रदेश के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग को लेकर यहां एक दिन के अनशन पर बैठे थे. आंध्र प्रदेश के लोगों को लिखे अपने खुले पत्र में शाह ने आरोप लगाया कि नायडू ने उनका (जनता) भरोसा तोड़ा और वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर ‘‘व्यक्तिगत’’ हमला करके बहुत दूर जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि नायडू की ‘‘छलावे की राजनीति’’ समाप्त होने वाली है. उन्होंने कहा कि भाजपा का ‘सत्यमेव जयते’ में पूरा विश्वास है. तेदेपा नेता ने हाल में मोदी की पत्नी का नाम लेकर उन पर हमला किया था. नायडू ने दावा किया था कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि प्रधानमंत्री ने एक रैली में उनके बेटे का जिक्र करके उन पर निशाना साधा था. सोशल मीडिया पर पोस्ट किये गये अपने पत्र में शाह ने कहा कि लोग कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने के लिए आगामी चुनावों में नायडू को कड़ा सबक सिखायेंगे. आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव एक साथ ही होंगे. नायडू पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि उनकी पार्टी जानती है कि नायडू की रगों में ‘‘कांग्रेस का खून’’ है, लेकिन उन्होंने (शाह) कभी भी यह उम्मीद नहीं की थी कि वह झूठ बोलने में कांग्रेस से आगे निकल जाएंगे और केंद्र सरकार, मोदी तथा भाजपा के खिलाफ ‘‘घृणा अभियान’’ चलायेंगे.

आज लिख गया राहुल गांधी के राजनीतिक करियर का अंत, प्रियंका बनेंगी वजह: अकाली नेता

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कांग्रेस सदस्य के रूप में अपनी राजनीति शुरू की थी और बाद में अपने ससुर एन टी रामा राव द्वारा बनाई गई पार्टी तेदेपा में शामिल हो गये थे. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आगामी चुनावों में हार को भांपकर उन्होंने कई यू-टर्न लिये और वह अपनी विफलताओं से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए केन्द्र तथा भाजपा नेतृत्व के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण अभियान चला रहे है. अपने लम्बे पत्र शाह ने राज्य में चलाई गई कई केन्द्रीय परियोजनाओं का हवाला दिया. ‘‘यू्-टर्न’’ लेने के लिए नायडू पर निशाना साधते हुए भाजपा प्रमुख ने कहा कि उन्होंने (नायडू) राज्य के लिए घोषित विशेष पैकेज की विधानसभा और कई सार्वजनिक मंचों पर सराहना की थी और यहां तक कि यह भी कहा था कि विशेष श्रेणी का दर्जा कोई रामबाण नहीं है और इससे राज्यों का विकास नहीं होता है. शाह ने कहा, ‘‘आंध्र प्रदेश विधानसभा ने राज्य के लिए विशेष आर्थिक पैकेज को मंजूरी देने के लिए केंद्र सरकार को धन्यवाद देते हुए एक प्रस्ताव पारित किया था.’’