नई दिल्ली। पूर्वोत्तर के तीन राज्यों त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड में से दो राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे बीजेपी के पक्ष में जाने के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमले शुरू हो गए हैं. त्रिपुरा और नगालैंड में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली है. त्रिपुरा में पिछले चुनाव में 10 सीटों के साथ कांग्रेस मुख्य विपक्षी पार्टी थी और उसे 36 प्रतिशत वोट मिले थे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी नानी से मिलने इटली गए हुए हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राहुल गांधी की इटली यात्रा पर चुटकी ली. उन्होंने कहा कि मुझे व्हाट्सऐप पर मैसेज आया है कि इटली में चुनाव है. Also Read - कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते Whatsapp ने उठाया बड़ा कदम, अब यूजर्स नहीं कर पाएंगे ये काम

इससे पहले बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने राहुल गांधी पर प्रहार करते हुए उन्हें भगौड़ा बताया और कहा कि उन्होंने ऐसा शख्स पहले कभी नहीं देखा. उन्होंने कहा कि राहुल बिना सच स्वीकार किए ही विदेश यात्रा पर चले गए. 70 सालों के राजनीतिक सफर में कांग्रेस शिखर से शून्य पर आ गई है. बीजेपी नेता और असम के मंत्री हेमंत विश्व शर्मा ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की राजनीतिक क्षमता की तुलना करते हुए कहा कि अगर शाह स्नातकोत्तर के छात्र हैं तो राहुल अभी नर्सरी कक्षा में ही हैं. Also Read - कांग्रेस ने सामूहिक पलायन पर सरकार से पूछे सवाल, कहा- गरीबों की जिंदगी मायने रखती है या नहीं

शर्मा करीब दो दशक तक कांग्रेस में थे और करीब 15 साल तक तरूण गोगोई के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार में मंत्री थे. वह 2015 में बीजेपी में शामिल हो गए. असम के शिक्षा और स्वास्थ्य मंत्री ने शाह और गांधी के कामकाज की शैली में तुलना करने संबंधी सवाल पर यहां संवाददाताओं से कहा कि मैं कहूंगा कि अगर अमित शाह राजनीति में स्नातकोत्तर के छात्र हैं तो राहुल गांधी अब भी नर्सरी कक्षा में हैं.

यह भी पढ़ें- त्रिपुरा चुनाव परिणामः इन 5 कारणों से समझें, शून्य से सत्ता तक कैसे पहुंची बीजेपी

गौरतलब है कि पूर्वोत्तर के तीन राज्यों त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड के विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 2019 के चुनाव के लिए आत्मविश्वास मजबूत कर लिया है. त्रिपुरा में जहां बीजेपी ने 25 साल पुरानी लेफ्ट सरकार को उखाड़ फेंका वहीं नगालैंड में भी सहयोगी दल के साथ सबसे आगे निकल गई. हालांकि, पार्टी को मेघालय में अपेक्षित सफलता नहीं मिली और मात्र 4 सीटों पर सिमटती दिख रही है. त्रिपुरा की जीत के साथ बीजेपी ने 2019 लोकसभा चुनाव के लिए अपना हौसला मजबूत कर लिया.