दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के छिपे धन की जांच कराने की मांग की। आम आदमी पार्टी के नेता ने कहा कि शाह ने अपने धन को छिपाने के लिए गुजरात के एक प्रॉपर्टी डीलर को कर माफी योजना के तहत 13,860 करोड़ रुपये की घोषणा करने के लिए आगे किया होगा। Also Read - डोनाल्ट ट्रंप के आभार के बाद पीएम मोदी ने कहा- मानवता की मदद के लिए हरसंभव काम करेगा भारत

केजरीवाल ने ट्वीट किया, “अमित शाह को हार्दिक पटेल के आरोपों का जवाब देना चाहिए। बहुत गंभीर! इसकी जांच होनी चाहिए।” यह भी पढ़ें: PM मोदी ने आदित्य बिरला ग्रुप से ली 25 करोड़ रुपयों की रिश्वत: CM अरविंद केजरीवाल Also Read - Trump showers praise on Modi for hydroxychloroquine: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी की जमकर प्रशंसा की, कहा- ऐसे होते हैं सच्चे दोस्त

यह ट्वीट पटेल के आरोपों के बाद आया है। पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने शनिवार को आरोप लगाया था कि आय घोषण योजना के तहत रिकार्ड राशि घोषित करने वाले महेश शाह के पीछे ‘जनरल डायर’ हैं। हार्दिक ने यह उपमा भाजपा अध्यक्ष के लिए गढ़ी है। Also Read - Covid-19 in India Update: 5290 लोग हुए कोविड-19 का शिकार, 162 की मौत, इस राज्य की स्थिति सबसे खराब

गुजरात के व्यापारी महेश शाह ने दो महीने पहले छिपे हुए धन के रूप में 13,860 करोड़ रुपये की घोषणा कर सभी को चौंका दिया था। छिपे धन पर कर की राशि की पहली किस्त जमा करने से एक दिन पहले वह 29 नवंबर को फरार हो गया था।

गुजरात का व्यापारी शनिवार को ईटीवी के स्टूडियो में प्रकट हुआ और उसने कहा कि धन की घोषणा करने के लिए कुछ व्यापारी और राजनेताओं ने मुखौटे के रूप में उसका इस्तेमाल किया है। लेकिन उसने किसी का नाम नहीं लिया।

सूरत में सितंबर में अमित शाह के एक कार्यक्रम के आयोजन से कुछ घंटे पहले एक पोस्टर में भाजपा अध्यक्ष को ‘जनरल डायर’ के रूप में दिखाया गया था।

पाटीदार अमानत आंदोलन समिति के संस्थापक और सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में पटेल समुदाय के लोगों को आरक्षण देने की मांग को लेकर आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हार्दिक पटेल अक्सर अमित शाह को ‘जनरल डायर’ कहकर ही संबोधित करते हैं।