नई दिल्ली: केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी और प्रमुख विरोधी पार्टी कांग्रेस ने शुक्रवार को एक-दूसरे पर जमकर हमले किए. बीजेपी नेता व केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से यह स्पष्ट करने की मांग की है कि क्या वे मानते हैं कि कांग्रेस एक मुस्लिम पार्टी है. उन्होंने साथ ही कांग्रेस पार्टी पर 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले देश को मजहब के आधार पर बांटने का आरोप लगाया. वहीं, कांग्रेस ने बीजेपी पर पटलवार करते हुए कहा कि राफेल घोटाले बेरोजगारी की समस्या और नीरव मोदी जैसे मामलों से ध्यान भटकाने के लिए रक्षा मंत्री धार्मिक तनाव पैदा कर रही हैं. Also Read - GST Collection increases in November 2020: नवंबर माह में हुआ 1.05 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी संग्रह, वित्त मंत्रालय ने दी जानकारी

राहुल बताएं क्या कांग्रेस एक मुस्लिम पार्टी है:बीजेपी
बीजेपी की सीनियर नेता सीतारमण ने पार्टी मुख्यालय में मीडियाकर्मियों से से कहा कि एक समाचारपत्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों से वार्तालाप में कहा था कि कांग्रेस पार्टी एक मुस्लिम पार्टी है.उन्होंने सवाल किया, ”हम कांग्रेस अध्यक्ष से पूछना चाहते हैं कि क्या वे मानते हैं कि कांग्रेस एक मुस्लिम पार्टी है? राहुल गांधी स्पष्ट करें कि बैठक में क्या चर्चा हुई.” Also Read - 15th Pay Commission Report: 15वें वित्त आयोग ने वित्त मंत्री को सौंपी रिपोर्ट, संसद में होगी पेश

डर है कि सांम्प्रदायिक दंगा फैलाने का कोई षड्यंत्र तो नहीं
बीजेपी की वरिष्ठ नेता ने कहा कि अगर कांग्रेस पार्टी का मकसद 2019 का चुनाव धर्म के आधार पर लड़ने का है, तब हमें डर है कि सांम्प्रदायिक रूप से संवेदनशील इलाकों में दंगा फैलाने का कोई षड्यंत्र तो नहीं होगा? उन्होंने कहा कि अगर कोई साम्प्रदायिक तानव पैदा होता हे तो इसकी पूरी जिम्मेदारी कांग्रेस पार्टी की होगी. सीतारमण ने आरोप लगाया कि कांग्रेस साम्प्रदायिक विभाजन का खतरनाक खेल खेल रही है और साम्प्रदायिक वैमनस्य पैदा कर रही है.

कांग्रेस ने कहा- मुद्दों से भटकाना चाहती है बीजेपी
कांग्रेस प्रवक्ता सुष्मिता देव ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”संसद के सत्र में जो मुश्किल सवाल सरकार के सामने आने वाले हैं, सरकार उससे लोगों का ध्यान भटकाना चाहती है. रक्षा मंत्री के बयान से आज यही बात स्पष्ट हुई है.” उन्होंने कहा, ”रक्षा मंत्री के खिलाफ 58 हजार करोड़ रुपए के राफेल घोटाले का आरोप है, सेना के पास वर्दी के लिए पैसे नहीं है, किसानों की आत्महत्या बढ़ रही है, नौजवानों के पास रोजगार नहीं है, नीरव मोदी का पता नहीं है. दुख इस बात का है कि इन सब मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए सरकार धर्म का सहारा ले रही है.” कांग्रेस प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि सीतारमण ने धर्म के आधार पर तनाव पैदा करने की कोशिश कर रही हैं. कांग्रेस प्रवक्ता देव ने उन्होंने कहा, ”हम रक्षा मंत्री से यह कहना चाहते हैं कि आप इधर-उधर की बात नहीं करिए. असल मुद्दों का जवाब दीजिए.”

कांग्रेस ने उर्दू डेली की खबर को खारिज किया
उधर, कांग्रेस ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ राहुल गांधी की मुलाकात को लेकर एक उर्दू दैनिक की खबर को खारिज करते हुए कहा कि वह भारत के सभी धर्मों, जातियों और वर्गों की पार्टी है.दरअसल, एक उर्दू दैनिक ने दावा किया है कि गांधी ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ मुलाकात के दौरान कहा कि ‘कांग्रेस मुस्लिम पार्टी है.”

सुरजेवाला ने बताया कोरी अफवाह
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस खबर को कोरी अफवाह करार देते हुए कहा, ” जब सरकार के सरदार और खुद सरकार झूठ पर चलती हो तो फिर अफवाह ही सरकार की मुख्य नीति बन जाती है. भारत जंग-ए-आजादी का इतिहास और कांग्रेस का इतिहास साथ-साथ अंकित है. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 132 करोड़ देशवासियों की पार्टी थी, है और सदैव रहेगी.” सीतारमण ने कहा कि क्या कांग्रेस 2019 का चुनाव मजहब के आधार पर लड़ेगी? ” कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुरजेवाला उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं के बयान हमें 1947 की स्थिति की याद दिलाते हैं, जब धर्म के आधार पर देश का बंटवारा किया गया था.
रक्षा मंत्री ने पूछा क्या वे शरिया कोर्ट के पक्ष में हैं
केंद्रीय रक्षा मंत्री सीतारमन ने आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता शशि थरूर ‘हिन्दू पाकिस्तान’ का उल्लेख कर चुके हैं. उससे पहले उनके ही नेता भगवा आतंकवाद का शब्द गढ़ चुके हैं. कर्नाटक कांग्रेस के एक नेता शरिया अदालतों का समर्थन कर चुके हैं. बीजेपी नेता ने कहा, ”हम राहुल गांधी जी से पूछना चाहते हैं कि क्या वो शरिया अदालतें लागू करने के समर्थन में हैं?”

(इनपुट- एजेंसी)