नई दिल्ली: अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण को लेकर सियासत तेज हो गई है. बीजेपी ने गुरुवार को कहा कि वह अयोध्या में संवैधानिक तरीके से राम मंदिर के निर्माण को संकल्पबद्ध है. वहीं, कांग्रेस वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि सरकार द्वारा लाया गया कोई भी अध्यादेश या संसद में पारित विधेयक असंवैधानिक होगा क्योंकि मामला विचाराधीन है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में अपील लंबित होने के बीच कोई अध्यादेश या कानून लाया जाना एक साहसी कार्रवाई होगी. Also Read - लॉकडाउन को फेल बताने पर राहुल गांधी पर बीजेपी का पलटवार: झूठ नहीं फैलाएं, दुनिया के आंकड़े देखें

Also Read - भाजपा शासित राज्यों ने कोविड-19 के की लड़ाई में आत्मसमर्पण कर दिया है : कांग्रेस

मोदी के मंत्री ने कहा- राम मंदिर के लिए अध्यादेश लाना ठीक नहीं, मंदिर और मस्जिद दोनों पर हो फैसला Also Read - मीडिया पर भड़के राहुल गांधी, बोले- अपने मालिकों को खुश करने के लिए सच के साथ करते हैं खिलवाड़

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने मीडियाकर्मियों से कहा कि बीजेपी संवैधानिक तरीके से राम मंदिर के निर्माण की पक्षधर है. 1989 में पालमपुर अधिवेशन में मंदिर के निर्माण के संबंध में संकल्प लिया था. इसमें कोई संशय नहीं है कि भाजपा राम मंदिर के निर्माण को संकल्पबद्ध है. पार्टी ने इस विषय पर निजी विधेयक या किसी अन्य विधायी पहल के बारे में कहा कि भविष्य के किसी विधेयक के बारे में कोई टिप्पणी करना उचित नहीं है.

आरएसएस ने साफ कहा, राम मंदिर पर कोर्ट जल्‍द फैसला करे या सरकार कानून बनाकर बाधाएं दूर करे

सीनियर कांग्रेस नेता  चिदंबरम ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”मेरे विचार से कोई अध्यादेश लाया जाना असंवैधानिक होगा. इसलिए देखते हैं कि सरकार संवैधानिक स्थिति को पहचानती है या यह एक साहसी कार्रवाई में शामिल होती है. अपील लंबित होने पर एक अध्यादेश लाया जाना एक साहसिक कार्रवाई होगी. यह असंवैधानिक होगा.”

मुलायम की छोटी बहू अपर्णा ने कहा- मैं राम के साथ हूं, चाहती हूं अयोध्या में बने ‘राम मंदिर’

पात्रा बोले- विधेयक के बारे में मेरा टिप्पणी उचित नहीं

संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान राम मंदिर पर निजी विधेयक पेश करने की संभावना संबंधी खबरों के मुद्दे पर भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि निजी विधेयक संसद की संपत्‍त‍ि है. संसद में भविष्य में पेश किए जाने वाले विधेयक के बारे में टिप्पणी करना उनके लिए उचित नहीं है.

कांग्रेस तेलंगाना में 95 सीटेंं और सहयोगी दल 24 पर लड़ेंगे चुनाव, 8 या 9 को जारी होगी लिस्‍ट

मंदिर विरोधियों की सूची में कांग्रेस, एसपी, बीएसपी

पात्रा ने कहा कि राम मंदिर के विषय में भाजपा का संकल्प है. अगर मंदिर समर्थकों और मंदिर निर्माण विरोधियों की सूची तैयार की जाए तब मंदिर समर्थकों में संत समाज, आरएसएस, भाजपा को शामिल किया जाएगा, वहीं मंदिर निर्माण विरोधियों की सूची में कांग्रेस, सपा, बसपा जैसे विपक्षी दलों का नाम आयेगा .

राहुल गांधी से की मुलाकात फिर नायडू बोले- हम देश को बचाने एक-साथ आ रहे हैं 

बीजेपी सांसद सिन्हा निजी विधेयक पेश कर सकते हैं

बीजेपी से राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने गुरूवार को संकेत दिया कि वे संसद के आगामी सत्र के दौरान राम मंदिर पर निजी विधेयक पेश कर सकते हैं. सिन्हा ने ट्वीट किया, ” जो लोग भाजपा, आरएसएस को उलाहना देते रहते हैं कि राम मंदिर की तारीख़ बताए… उनसे सीधा सवाल क्या वे मेरे निजी विधेयक का समर्थन करेंगे ? समय आ गया है दूध का दूध पानी का पानी करने का.” उन्होंने अपने ट्वीट को राहुल गांधी, अखिलेश यादव, सीताराम येचुरी, लालू प्रसाद, मायावती से टैग कर दिया. सिन्हा ने पूछा कि अयोध्या में राम मंदिर पर उनके निजी विधेयक का प्रस्ताव क्या ये लोग लिखेंगे ? इस विषय पर तारीख पूछने वाले जवाब भेजें.

बीजेपी के खिलाफ तीसरा मोर्चा खड़ा करने के लिए नायडू, पवार और फारुक मिले, दिल्‍ली में सियासी पारा चढ़ा