नई दिल्ली: कोरोना काल में दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली को लेकर राजघाट पर धरना दे रहे प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता और नेता प्रतिपक्ष रामवीर विधूड़ी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. भाजपा नेताओं ने इस दौरान केजरीवाल सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. यह दूसरा मौका है, जब लॉकडाउन में धरना देते हुए भाजपा नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है. इससे कुछ दिनों पहले सांसद मनोज तिवारी ने भी समर्थकों के साथ राजघाट पर धरना दिया था, तब भी पुलिस ने हिरासत में लिया था. बीजेपी नेता दिल्ली में सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज के फैसले का भी विरोध कर रहे थे. बीजेपी नेताओं ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने ये फैसला कर के इंसानियत को शर्मसार कर दिया है. Also Read - सुशांत सिंह राजपूत मामले पर कांग्रेस ने दी नसीहत, तो भाजपा ने किया घेराव, दागे ये 7 सवाल

भाजपा नेताओं ने कहा कि कोरोना महामारी से निपटने में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार नाकाम साबित हुई है. सरकार को जगाने के लिए इस धरने का आयोजन किया गया. जिसमें सोशल डिस्टैंसिंग का पूरी तरह पालन हुआ. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हर दिल्लीवासी के साथ भाजपा खड़ी है. केजरीवाल सरकार की नाकामियों को पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी. उन्होंने आरोप लगाया कि जिस स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की केजरीवाल सरकार खूब गुणगान करतीं थीं, उन स्वास्थ्य सुविधाओं की कोरोना के संकट के समय पोल खुल रही है. मरीजों को इलाज नहीं मिल रहा है. Also Read - जहरीली शराब मामले में CBI जांच की मांग करने पर अमरिंदर सिंह का सीएम केजरीवाल को जवाब- अपने काम से काम रखें

प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने कहा कि चुनाव से पहले इंसान से इंसान का हो भाईचारा कहने वाले मुख्यमंत्री ने सारी इंसानियत को ही शर्मसार कर दिया. लाखों लोग दूसरे राज्य में रोजगार के लिए जाते हैं. दिल्ली में भी हैं. इनमें से किसी को संक्रमण हुआ तो वो कहां जाएगा. उसको अगर कुछ हुआ तो जि़म्मेदारी किसकी होगी? बता दें कि अरविंद केजरीवाल सरकार ने नियम बना दिया है कि दिल्ली में सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज होगा. Also Read - अयोध्या में भूमि पूजन के दिन बंगाल में लॉकडाउन तृणमूल की हिंदू विरोधी मानसिकता दर्शाती है : राहुल सिन्हा