नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल में एक और बीजेपी कार्यकर्ता पर हमला हुआ है. ताजा मामला कूच बेहर का है. यहां नारायन सरकार नाम के बीजेपी कार्यकर्ता को गोली मार दी गई. सिलीगुड़ी में उसका इलाज हो रहा है. बता दें कि इससे पहले दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या हो चुकी है. उनकी लाश पेड़ और हाई-टेंशन तार से लटकते हुई मिली थी. Also Read - तमिलनाडु के बंगाल में खुलने जा रहे सिनेमाघर, 100 फीसदी क्षमता के साथ खोलने का आदेश जारी

बता दें कि यह एक हफ्ते में बीजेपी कार्यकर्ताओं की ऊपर तीसरा हमला है. बीते 31 मई को पुरुलिया जिले में 18 साल के त्रिलोचन महतो की पेड़ से लटकती लाश मिली थी. उसके टी-शर्ट पर लिखा हुआ था कि बीजेपी को सपोर्ट करने के कारण उसकी हत्या हुई है. वह बीजेपी युवा मोर्चा का कार्यकर्ता था. Also Read - PM मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की भतीजी प्रोफेसर चित्रा घोष के निधन पर जताया शोक, फोटो शेयर कर किया याद

इसके बाद 2 जून शनिवार को 32 साल के दुलाल कुमार की लाश ढाबा गांव में हाई-टेंशन तार से लटकी मिली थी. उसके परिवार ने जहां इसे हत्या बताया था, वहीं एसपी ने इसे सुसाइड का मामला बताया था. हत्याओं पर पुरुलिया के एसपी आकाश मघरिया ने कहा, पांच डॉक्टरों की टीम ने पोस्टमार्टम की थी. रिपोर्ट के मुताबिक, ये सुसाइड का मामला है. Also Read - BCCI President सौरभ गांगुली अस्‍पताल से हुए डिस्‍चार्ज, बोले- डॉक्‍टरों को धन्‍यवाद, मैं पूरी तरह से ठीक हूं

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि पुरुलिया जिले में पार्टी के दो कार्यकर्ताओं की मौत के पीछे का सच पता लगाने के लिए पार्टी कलकत्ता उच्च न्यायालय का रुख करेगी और जरूरत पड़ने पर उच्चतम न्यायालय भी जाएगी. पश्चिम मिदनापुर जिले के दासपुर पुलिस थाना इलाके के मगुरिया में एक सभा को संबोधित करते हुए विजयवर्गीय ने यह बात कही. विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के उकसावे पर दोनों की हत्या की गई. तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने इन मौतों में किसी संलिप्तता से इनकार किया है.