नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सिख श्रद्धालुओं को सीमापार करतारपुर साहिब गुरुद्वारे जाने की कथित रूप से अनुमति देने पर पाकिस्तान को धन्यवाद देने को लेकर पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पर शुक्रवार को निशाना साधा. पार्टी ने कहा कि इस पड़ोसी देश की बड़ाई करने वाले नेता कांग्रेस में बढ़ते जा रहे हैं.

भाजपा प्रवक्ता शहनवाज हुसैन ने संवाददताओं से कहा कि पाकिस्तान की तारीफ करना कांग्रेस की आदत बन गयी है. उन्होंने विपक्षी दल से यह स्पष्ट करने को कहा कि क्या सिद्धू की टिप्पणी पार्टी के आधिकारिक रुख से मेल खाती है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता भारत के प्रधानमंत्री का अपमान करते हैं और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की प्रशंसा करते हैं.

हुसैन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से भी स्पष्टीकरण मांगा और कहा कि सिद्धू कांग्रेस नीत पंजाब सरकार में मंत्री हैं और पार्टी अध्यक्ष के भी अच्छे दोस्त हैं. पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के शत्रुतापूर्ण बयानों का जिक्र करते हुए भाजपा नेता ने कहा कि एक तरफ बाजवा ऐसी टिप्पणी करते हैं और दूसरी तरफ कांग्रेस नेता पाकिस्तान की सराहना करते हैं. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि बाजवा को कोई भ्रम नहीं होना चाहिए. भारत, पाकिस्तान सेना के किसी भी दुस्साहस का करारा जवाब देने में पूरी तरह समर्थ है.

सिद्धू के पाक दौरे का असर, ‘दोस्त’ इमरान ने करतारपुर साहिब के दरवाजे खोले

सिद्धू ने दावा किया था कि पाकिस्तान ने सिख श्रद्धालुओं को सीमापार करतारपुर साहिब गुरुद्वारा तक जाने की अनुमति देने का फैसला किया है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस सद्भाव के लिए अपने दोस्त (पाकिस्तान के प्रधानमंत्री) इमरान खान को धन्यवाद देता हूं. वह बस दो कदम नहीं बल्कि मीलों चले हैं और अनंत संभावनाओं का द्वार खोला है. मैं सदैव उनका ऋणी रहूंगा.’’

कश्मीर को लेकर पाक आर्मी चीफ ने फिर शेखी बघारी, भारत को उकसाया

उधर, पाकिस्तान सेना प्रमुख ने कश्मीर में आतंकवाद का पक्ष लिया है. रावलपिंडी में पाकिस्तान सेना मुख्यालय में आयोजित रक्षा और शहीद दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बाजवा ने कहा कि पाकिस्तान जम्मू कश्मीर के लोगों का आत्मनिर्णय के अधिकार के वास्ते उनके संघर्ष में समर्थन करता है. पाकिस्तान भारत के साथ 1965 की लड़ाई की वर्षगांठ के तौर पर छह सितंबर को रक्षा और शहीद दिवस मनाता है. बाजवा ने कहा कि हमने 65 और 71 की लड़ाइयों से काफी सीखा है. हम इन लड़ाइयों के चलते अपने रक्षाबलों को और मजबूत करने में समर्थ हुए. कठिन आर्थिक हालात के बावजूद हम परमाणु ताकत बन पाए.