नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में रविवार को यहां पार्टी के प्रदेश कार्यालय से राजीव चौक तक एक मार्च निकाला, जिसमें बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया. मार्च का नेतृत्व भाजपा सांसद मिनाक्षी लेखी ने किया. इस मौके पर मीनाक्षी लेखी ने विपक्ष पर आरोप लगाया कि “देश में अराजकता और भ्रम का वातावरण बनाया जा रहा है. प्रधानमंत्री बार बार कह रहे हैं कि इस कानून से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी. यह कानून सिर्फ नागरिकता देने के लिए हैं, फिर भी इस मुद्दे पर कांग्रेस और उनकी सहयोगी पार्टियां देश में लोगों के बीच डर पैदा कर रही हैं.”

मीनाक्षी ने कहा कि हमारी सरकार 2014 में आई, जबकि जिन लोगों को नागरिकता मिल रही है वे 2014 के पहले से भारत मे रह रहे हैं. हमारे कार्यकाल में ये लोग नहीं आए थे. हम सिर्फ मानवता के नाम पर उन्हें नागरिकता दे रहे हैं, क्योंकि उन्हें पाकिस्तान और बांग्लादेश में धर्म के आधार पर प्रताड़ित किया गया है. इस मार्च में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी को भी शिरकत करना था, लेकिन चुनाव समिति की बैठक की वजह से ये नेता नहीं आ पाए.

इससे पहले शनिवार को भी देश के दूसरे भागों में भाजपा ने सीएए के समर्थन में रैलियां निकाली. शनिवार को मध्य प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड और बिहार में कई जगहों पर नागरिकता कानून के समर्थन में जन जागरण रैलियां निकाली गईं. दिल्ली के कई कॉलेजों में भी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से नागरिकता कानून के समर्थन में रैलियां निकाली गईं. गौरतलब है कि पांच जनवरी से ही भाजपा नागरिकता कानून के समर्थन में देश भर में अभियान चला रही है. गृहमंत्री अमित शाह ने सीएए के समर्थन में दिल्ली से जनजागरण अभियान की शुरुआत की थी.