नई दिल्ली: नागरिकता कानून पर देश भर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए भाजपा ने इसके पक्ष में अभियान चलाने का फैसला किया है. इस अभियान की शुरुआत खुद गृहमंत्री अमित शाह करेंगे. भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा की अध्यक्षता में गुरुवार शाम वरिष्ठ पार्टी नेताओं की हुई बैठक में पांच जनवरी से यह अभियान शुरू करने का निर्णय लिया गया. बैठक में यह भी तय किया गया कि पांच जनवरी को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह इस जनसंपर्क अभियान का शुभारंभ करेंगे और इसी दिन भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष नड्डा सहित 50 अन्य बड़े नेता अलग-अलग शहरों में इस तरह के कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे. अभियान 15 जनवरी तक चलेगा.Also Read - Parliament Monsoon Session 2021: राज्यसभा में हंगामा कर रहे TMC के 6 सांसद निलंबित, सभापति ने पहले किया था आगाह

भाजपा सूत्रों ने बताया कि जनसंपर्क अभियान के तहत तीन करोड़ परिवारों से संपर्क करने का लक्ष्य रखा गया है. जनसंपर्क अभियान में भाजपा के साथ ही आरएसएस के अनुषांगिक संगठन भी शामिल होंगे. सूत्रों ने बताया कि इसके साथ ही एक करोड़ लोगों द्वारा प्रधानमंत्री के नाम नागरिकता कानून के समर्थन में पत्र भी हासिल करने का लक्ष्य रखा गया है. इसके लिए भाजपा ने समाज के अलग-अलग वर्गो में जाने की योजना बनाई है. Also Read - बीजेपी ने कहा- राहुल गांधी कांग्रेस शासित राज्यों में बलात्कार के मामलों पर नहीं बोलते हैं, न ट्वीट करते हैं

बैठक में यह भी तय किया गया कि बुद्धिजीवी, दलित, साधु-संत, अल्पसंख्यक आदि वर्गों में जनसंपर्क के लिए भाजपा अलग से टीम बनाएगी. पार्टी के सूत्र ने बताया कि पूरे जनसंपर्क अभियान के अंत में एक बड़ी रैली करने पर भी भाजपा विचार कर रही है, और इसके लिए दिल्ली में 29 दिसम्बर को एक बड़ी बैठक बुलाई गई है. बैठक में नड्डा के अलावा आरएसएस के बड़े पदाधिकारी भी शामिल होंगे. Also Read - बीजेपी नेताओं से मिलने के बाद क्या अब भी ओवैसी के साथ गठबंधन करेंगे ओमप्रकाश राजभर, कही ये बात