बेंगलुरु: सत्तारूढ़ कांग्रेस – जेडीएस के एक दर्जन से अधिक विधायकों के इस्तीफे के बाद भाजपा कर्नाटक में राजनीतिक घटनाक्रमों पर नजर बनाए हुए है. यह बात राज्य भाजपा के अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा ने रविवार को कही. साथ ही उन्होंने कहा कि पार्टी में लोग संन्यासी नहीं हैं, जो सरकार बनाने की संभावनाओं से इनकार करेंगे. यह पूछने पर कि क्या भाजपा सरकार बनाने के लिए तैयार है तो उन्होंने कहा, इंतजार कीजिए और देखिए. क्या हम संन्यासी हैं? इस्तीफा की प्रक्रिया खत्म होने और विधानसभा अध्यक्ष द्वारा निर्णय लेने के बाद हमारी पार्टी के नेता विचार-विमर्श करेंगे और निर्णय करेंगे.

तुमकुर में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ”हमारी पार्टी राष्ट्रीय पार्टी है, राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ चर्चा करने के बाद हम निर्णय करेंगे.” यह पूछने पर कि क्या गठबंधन सरकार गिर जाएगी तो उन्होंने कहा, ”इंतजार कीजिए और देखिए.” राज्य में गठबंधन सरकार के 13 विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस- जद (एस) सरकार मुसीबतों में घिर गई है.

कर्नाटक की सत्तारूढ़ जद(एस)-कांग्रेस सरकार शनिवार को गठबंधन के 13 विधायकों के अचानक इस्तीफा देने के बाद संकट में आ गई. इन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा सौंपा है. कि इस्तीफा देने के बाद ये 10 विधायक एक चार्टर्ड विमान से शनिवार रात मुम्बई पहुंचे, जहां वे एक होटल में हैं. कर्नाटक कांग्रेस के विधायक महेंद्र सिंघी और महाराष्ट्र के भाजपा विधायक प्रसाद लाड को रविवार की सुबह यहां एक होटल में देखा गया था.

सिंघी ने पत्रकारों को बताया कि उन्होंने कांग्रेस के विधायक रमेश जर्किहोली से मुलाकात की और विधानसभा छोड़ने के कारणों से उन्हें अवगत कराया. सिंघी ने कहा, हमारी सरकार को कोई खतरा नहीं है, क्योंकि मुख्यमंत्री के लौटते ही यह मुद्दा सुलझा लिया जाएगा.

वहीं, लाड ने होटल में उनकी मौजूदगी के सवाल पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, मुझे इस बारे में कुछ नहीं पता और मुझे मीडिया से इसकी जानकारी मिली. मैं भाजपा के सदस्यता अभियान में मसरूफ हूं. दूसरी ओर, महाराष्ट्र भाजपा के प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने इस पूरे मामले पर सवाल किए जाने पर कहा, हमें कर्नाटक के विधायकों के मुम्बई में होने की कोई जानकारी नहीं है. हमारा इस घटनाक्रम से कोई लेना-देना नहीं है.

जद(एस) के बागी विधायक एएच विश्वनाथ ने शनिवार को पत्रकारों से कहा था, कांग्रेस और जेडीएस के 14 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है. बहरहाल, कर्नाटक विधानसभा सचिवालय से जुड़े सूत्रों का हालांकि, कहना है कि 13 विधायकों ने ही अपने दस्तावेज जमा कराए हैं.

इनके इस्तीफा देने से पहले कर्नाटक विधानसभा में कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन के 118 विधायक थे. इसमें स्पीकर के अलावा कांग्रेस के 78 विधायक, जद (एस) के 37 विधायक, बसपा का एक विधायक और दो निर्दलीय विधायक शामिल हैं. कर्नाटक विधानसभा में भाजपा के 105 विधायक हैं.