मुंबई: शिवसेना ने मंगलवार को अपनी सहयोगी भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि बीमार चल रहे मनोहर पर्रिकर को गोवा का मुख्यमंत्री बनाए रखना भाजपा की ‘क्रूर और अमानवीय राजनीति’ है. शिवसेना ने आरोप लगाया कि भाजपा राज्य में सत्ता गंवाने के बारे में सोचकर डरी हुई है. शिवसेना ने दावा किया कि पर्रिकर की अनुपस्थिति में तटीय राज्य गोवा में अराजकता फैली हुई है. भाजपा इस समस्या से जूझ रही है कि पर्रिकर की जगह किसे लाया जाए, क्योंकि पार्टी के पास कोई भी उपयुक्त चेहरा नहीं है.Also Read - Farmer's Agitation Live Updates: किसान नेता चढूनी बोले, जब तक सरकार सभी मांगें नहीं मान लेती तब तक आंदोलन चलता रहेगा

Also Read - Goa: पूर्व मुख्‍यमंत्री रवि नाइक ने दिया कांग्रेस के व‍िधायक पद से इस्तीफा, BJP में हो सकते हैं शामिल

अमित शाह ने किया कंफर्म: पर्रिकर बने रहेंगे गोवा के सीएम, पर मंत्रिमंडल में होगा बदलाव Also Read - क्‍या शिवसेना कांग्रेस के नेतृत्‍व वाले UPA में होगी शामिल? संजय राउत ने दिया ये जवाब

बता दें कि गोवा के 62 वर्षीय मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर दिल्ली के एम्स में अग्न्याशय की बीमारी का इलाज करा रहे हैं. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में दावा किया, ‘ पर्रिकर गोवा में नहीं हैं. वह दिल्ली के अस्पताल में कैंसर का इलाज करा रहे हैं. मुख्यमंत्री की अनुपस्थिति में राज्य प्रशासन की स्थिति डांवाडोल हो गई है.’ संपादकीय में कहा गया है कि पर्रिकर को मुख्यमंत्री के पद पर बरकरार रखना न केवल गोवा के साथ अन्याय है बल्कि पर्रिकर के साथ भी अन्याय है.

गोवा मंत्रिमंडल में फेरबदल: दो नए मंत्रियों को दिलाई शपथ, हटाए गए मिनिस्टर ने जताई नाराजगी

उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी शिवसेना ने दावा किया कि बीजेपी पर्रिकर के नाम पर अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव तक ऐसे ही समय खींचना चाहती है. ‘सामना’ में कहा गया है, ‘ पर्रिकर के गिरते स्वास्थ्य के लिए तनाव सही नहीं है, लेकिन भाजपा के आलाकमान को यह बात कौन समझाए? वे पर्रिकर के स्वास्थ्य से ज्यादा सत्ता खोने से डरे हुए हैं. उनका इरादा गोवा को बीजेपी के जीत के मानचित्र में बरकरार रखने का है.’

एम्स में इलाज करा रहे गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर ने दो बीमार मंत्रियों को कैबिनेट से किया बाहर

बता दें कि अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को कहा था कि पर्रिकर अपने पद पर बने रहेंगे. वहीं विपक्षी पार्टी कांग्रेस यह दावा कर रही है कि भाजपा नीत गोवा की गठबंधन सरकार में सबकुछ ठीक नहीं है. कांग्रेस ने विधानसभा में विश्वास मत की मांग की.