अहमदाबाद: गुजरात में नई भाजपा सरकार में मंत्रालय आवंटन से नाराज मत्स्य पालन मंत्री एवं कोली नेता पुरुषोत्तम सोलंकी बुधवार को कैबिनेट बैठक में शामिल नहीं हुए. उनके भाई एवं पूर्व भाजपा विधायक हीरा सोलंकी के नेतृत्व में समर्थक गांधीनगर में बुधवार को पुरुषोत्तम सोलंकी के आवास पर एकत्र हुए और अपने नेता को अच्छे विभाग दिए जाने की मांग की.

पुरुषोत्तम सोलंकी ने अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘कोली समुदाय के लोगों को मैंने नहीं बुलाया है. वे एकजुटता व्यक्त करने अपनी मर्जी से आए हैं. कोली समुदाय को लगता है कि मुझे कुछ और विभाग दिए जाने चाहिए.’’ अपने भाई से मिलने के बाद हीरा सोलंकी ने कहा कि कोली समुदाय अपनी भावनाओं से भाजपा नेतृत्व को अवगत कराएगा.

यह भी पढ़ें: क्या 2018 में बदलेगी देश की सियासत, कांग्रेस के आएंगे अच्छे दिन?

उन्होंने कहा, ‘‘कोली समुदाय को विश्वास है कि न्याय होगा.’’ कल पुरुषोत्तम सोलंकी ने खुद को दिए गए विभाग को लेकर नाराजगी जताई थी और बेहतर विभागों की मांग की थी. उन्होंने दावा किया था कि पांच बार विधायक रहने के बावजूद नेतृत्व ने उनकी अनदेखी की, जबकि कई कनिष्ठों को बेहतर विभाग दिए गए हैं.

कोली समुदाय के नेता को मत्स्य राज्यमंत्री बनाया गया है. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकार में भी वह मत्स्य राज्यमंत्री थे. मंगलवार को कार्यभार संभालने के बाद सोलंकी ने खुद को आवंटित विभाग को लेकर असंतोष व्यक्त किया था और कहा था कि मुख्यमंत्री के पास 12 विभाग हैं तथा अन्य मंत्रियों के पास भी कई-कई विभाग हैं.

उन्होंने कहा था, ‘‘मेरा कोली समुदाय चाहता है कि उसे गुजरात कैबिनेट में बेहतर प्रतिनिधित्व दिया जाना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि राज्य मंत्रिमंडल में कोली समुदाय से वह एकमात्र मंत्री हैं. सोलंकी ने कहा था, ‘‘2019 के लोकसभा चुनाव नजदीक हैं. इससे पहले कोली समुदाय को तय करना होगा कि किसका समर्थन किया जाए.’’