नई दिल्ली : बीजेपी और जेडीयू के बीच सियासी रिश्तों में खटास लगातार खुलकर सामने आ रही है. बिहार के सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने पिछले हफ्ते मोदी सरकार के शपथग्रहण समारोह से ठीक पहले केंद्रीय कैबिनेट में शामिल होने से इनकार कर दिया था. नीतीश ने मंत्रिमंडल में जेडीयू को एक सीट मिलने के बाद इस ‘ऑफर’ को ठुकराते हुए कहा कि बीजेपी को अपने दम पर बहुमत हासिल है, इसलिए जेडीयू के लिए सरकार में सांकेतिक रूप से शामिल होना उचित नहीं है. इसके बाद रविवार को नीतीश ने बिहार मंत्रिमंडल का विस्तार किया, जिसमें बीजेपी के किसी नए मंत्री को शामिल नहीं किया. रविवार को नीतीश कैबिनेट में कुल आठ नए मंत्रियों को शपथ दिलाई गई. इनमें पांच विधायक और तीन विधान परिषद के सदस्य हैं. Also Read - भाजपा के विज्ञापन से नीतीश हुए गायब तो कांग्रेस ने खेला सहानुभूति कार्ड, कहा- CM बाबू...

Also Read - Bihar Polls: पहले फेज के चुनाव से पहले सोनिया गांधी का केंद्र और बिहार सरकार पर हमला- वोटरों को दिया यह संदेश

NDA के पूर्व सहयोगी ने भाजपा को चेताया- नीतीश कुमार के ‘धोखा नंबर 2’ के लिए तैयार रहें Also Read - Bihar Assembly Election 2020: एनडीए में आ गई दरार! पीएम मोदी के बाद नीतीश ने भी अपनाई 'एकला चलो' की नीति

अब केंद्रीय मंत्री और बेगूसराय से सांसद चुने गए गिरिराज सिंह ने नीतीश कुमार पर ताजा हमला बोला है. गिरिराज सिंह ने नीतीश की ‘इफ्तार पॉलिटिक्स’ को लेकर ट्विटर पर तंज कसा है. उन्होंने इफ्तार में शामिल हुए नीतीश कुमार की तस्वीरें पोस्ट करते हुए लिखा कि अगर नवरात्रि पर फलाहार का आयोजन कर उसकी तस्वीरें डालते तो वो तस्वीरें और सुंदर दिखतीं.

यहां गौर करने वाली बात यह है कि गिरिराज सिंह ने जो तस्वीरें पोस्ट की हैं, उनमें नीतीश कुमार के अलावा लोजपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के साथ ही बिहार के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी भी शामिल हैं.

उधर, नीतीश कुमार के ताजा रुख को लेकर लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने भी जेडीयू पर डोरे डालने में जुट गई है. राजद उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने सोमवार को कहा कि नीति कहती है कि बीजेपी को पछाड़ने के लिए सभी को एकसाथ आना चाहिए. रघुवंश प्रसाद सिंह ने पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में नीतीश कुमार का नाम लिए बिना कहा, “नीति यही कहती है कि बीजेपी को पछाड़ने के लिए सभी को एकसाथ आना चाहिए. इसमें कहीं छंटाउं और चुनने-बिनने की बात नहीं होनी चाहिए.’

(इनपुट एजेंसी से)