नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दुष्यंत कुमार गौतम ने दावा किया है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद पार्टी की पूर्ण बहुमत से सरकार बनेगी. अरविंद केजरीवाल के मुकाबले भाजपा से मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर हुए सवाल पर उन्होंने कहा, “उनके पास सिर्फ एक चेहरा है, हमारे पास तो अनेक चेहरे हैं.” उन्होंने एक बातचीत में कहा कि चुनाव घोषित होने पर पार्टी की चुनाव समिति और संसदीय बोर्ड अच्छे उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारेगी, जो जीतने के बाद विधानसभा में भारत माता की जय बोलकर विकास कार्य करेंगे.

आम आदमी पार्टी के नेता पूछ रहे हैं कि भाजपा का मुख्यमंत्री चेहरा कौन होगा. इस बारे में पूछने पर दुष्यंत गौतम ने कहा, “जैसा कि वे कह रहे हैं कि उनके पास एक ही केजरीवाल का चेहरा है. हमारे पास ऐसे बहुत से लोग हैं. हमारा संबंध किसी उग्रवादी संगठन से नहीं है. उनके पास एक चेहरा है, हमारे पास अनेक चेहरे हैं. हमारा मंडल, प्रदेश और ऑल इंडिया लेवल पर काम करने वाला हर योग्य कार्यकर्ता एक विचारधारा से जुड़ा है, हमारी पार्टी में पार्लियामेंट्री बोर्ड है जो समय आने पर ऐसे मामले में उचित फैसला लेता है.”

उम्मीदवार कब घोषित होंगे, इस सवाल पर दुष्यंत कुमार गौतम ने कहा कि भाजपा एक दिन में काम नहीं करती, हम पूरे पांच साल जनता के बीच रहकर काम करते हैं. चुनाव कार्यक्रम घोषित होगा तो फिर इलेक्शन व पार्लियामेंट्री बोर्ड अच्छे उम्मीदवार उतारेगा जो विधानसभा में भारत माता की जय बोलकर विकास का काम करेंगे. गौतम ने कहा कि दिल्ली में मुफ्त बिजली-पानी की घोषणाएं सिर्फ मार्च तक के लिए हैं, ऐसा अधिसूचना में भी है. दिल्ली की जनता स्वाभिमानी है, वह मुफ्त बिजली-पानी के वादों पर वोट नहीं देगी.

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने दिल्ली में बिजली और पानी को लेकर बड़े घोटाले का आरोप लगाते हुए कहा कि अब भी बिजली और पानी के भारी भरकम बिल आ रहे हैं. केजरीवाल कोई अपनी तनख्वाह से पैसे नहीं दे रहे हैं, वह जनता का पैसा विज्ञापनों पर लुटा रहे हैं. जैसे कोई कोलोनाइजर काम करता है, उसी तरह से केजरीवाल दिल्ली में काम करते हैं. एक या दो स्कूल मॉडल के तौर पर बना दिए हैं, उसी को दिखाते रहे हैं. उन्होंने कहा कि केजरीवाल जिस बड़े घर में रहते हैं, उसका लाखों का बिजली बिल आता है.

गौतम ने कहा, “भाजपा ने दिल्ली में परिवर्तन लाने का संकल्प लिया है. दिल्ली में 2022 तक जहां झुग्गी है, वहां पक्का मकान देंगे. जहां तक कच्ची कालोनियों का सवाल है, तो दस साल कांग्रेस खिलवाड़ करती रही. पांच साल केजरीवाल ने ले लिए और फिर कहा कि दो साल और चाहिए. भाजपा ने देखा कि इनके भरोसे नहीं हो पाएगा तो फिर बिल लाकर कच्ची कालोनियों के लोगों को मालिकना हक देने का रास्ता साफ किया.”

(इनपुट-आईएएनएस)