अहमदाबाद: अहमदाबाद के एक सूती मिल में बुधवार दोपहर को विस्फोट हो गया जिसमें 9 लोगों की मौत हो गई. फायर ब्रिगेड ने 9 अन्य को बचाया है. विस्फोट से मिल का एक हिस्सा पूरी तरह से ढह गया. अहमदाबाद के एलजी अस्पताल के सूत्रों ने 9 लोगों की मौत की पुष्टि की है. अस्पताल के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, विस्फोट स्थल से 9 लोगों को मृत लाया गया. हमने नौ अन्य को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया है, जिनमें से दो की हालत गंभीर है. Also Read - दिल्ली वालों को बड़ी राहत: कोरोना टेस्ट के लिए नहीं देने होंगे रुपए, गृह मंत्रालय ने लिया फैसला

पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर मृतकों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की काम की. उन्होंने कहा कि पीड़ितों व उनके परिवार वालों को हर संभव मदद दिया जाएगा. Also Read - Night Curfew in Gujarat: कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और राजकोट में अब से केवल रात का कर्फ्यू

वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर लिखा- अहमदाबाद में कपड़ों के गोदाम में आग लगने की सूचना अत्यंत दुःखद है. स्थानीय प्रशासन घटनास्थल पर हर सम्भव सहायता प्रदान करने में जुटा है. इस दुर्घटना में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूँ और घायलों के शीघ्र ही स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूँ. Also Read - तमिलनाडु के उपमुख्यमंत्री का बड़ा ऐलान, 'अगले विधानसभा चुनाव में BJP के साथ अपना गठबंधन जारी रखेगी AIADMK'

बता दें कि सूती कपड़ा मिल पिराना पिपलाज मार्ग पर नानू काका एस्टेट के पास स्थित है. मौके पर पहुंची अग्निशमन टीमों ने 18 लोगों को मलबे के नीचे से निकाला और सभी को अहमदाबाद के एलजी अस्पताल में भर्ती कराया, जिसमें से 9 लोगों की मौत हो चुकी थी. अग्निशमन विभाग के सूत्रों के अनुसार, मलबे के नीचे फंसे लोगों की तलाश जारी है.

अहमदाबाद के उप मुख्य अग्निशमन अधिकारी, जयेश खड़िया ने आईएएनएस को बताया, हमारा मानना है कि विस्फोट एक रासायनिक प्रयोगशाला के अंदर हुआ. जिसके बाद एक के बाद एक कई धमाके हुए. विस्फोट इतना बड़ा था कि इस मिल के कई हिस्से 50 मीटर दूर जा गिरे. ब्लास्ट से छत भी गिर गई. फिलहाल यह जगह एक युद्ध के मैदान की तरह लग रही है.

उन्होंने कहा, हमने अपनी टीम को दो हिस्साों में विभाजित किया. एक टीम ने मलबे के नीचे से आठ लोगों को निकाला, जिनमें से दो मृत थे. हमने उन सभी को अस्पताल भेज दिया है. अभी भी तीन से चार लोग मलबे के नीचे हो सकते हैं. अग्निशमन दल में 100-125 लोग हैं. आग अभी भी मिल के आधे हिस्से में लगी हुई है और हमारी टीमें इसे बुझाने की कोशिश कर रही हैं. धमाके की आवाज सुनकर पुलिस, श्रम और रोजगार विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे. फोरेंसिक विभाग (एफएसएल) के विशेषज्ञ विस्फोट के कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

(इनपुट-आईएएनएस)