चंडीगढ़: पंजाब के गुरदासपुर जिले के घनी आबादी वाले आवासीय क्षेत्र बटाला में एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट हो गया, जिसमें 19 लोग मारे गए और 25 से अधिक घायल हो गए. एक अधिकारी ने फोन पर आईएएनएस को बताया कि विस्फोट के बाद बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुई इमारत से शवों को निकालने के लिए बचाव कर्मचारी जुटे हुए हैं. उधर, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बटाला पटाखा फैक्ट्री विस्फोट की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं. इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को दो लाख और गंभीर रूप से घायल सात लोगों को 50,000 रुपये देने की घोषणा की है. साथ ही मामूली चोट वाले लोगों के लिए 25,000 रुपये मदद की घोषणा की है.

 

विस्फोट के बाद एक कार वर्कशॉप समेत आसपास की कई इमारतें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई. उन्होंने कहा कि विस्फोट का कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है. बचाव अभियान को तेज करने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल की दो टीमों को घटनास्थल पर भेजा गया. स्थानीय लोगों ने शिकायत की कि पटाखा फैक्ट्री पिछले कई वर्षो से अवैध रूप से चल रही थी. लोगों ने बताया कि यहां पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की जयंती समारोह पर होने वाले नगर कीर्तन के लिए पटाखों का निर्माण व भंडारण किया जा रहा था.


2017 में भी हुआ था विस्फोट
एक स्थानीय निवासी ने मीडिया को बताया कि पटाखा फैक्ट्री इस इलाके में कई सालों से काम कर रही है. हमने फैक्ट्री के खिलाफ सात-आठ बार स्थानीय प्रशासन से शिकायत की है, लेकिन इसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई. उन्होंने कहा कि जनवरी 2017 में भी इस क्षेत्र में इसी तरह से एक विस्फोट हुआ था, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि तीन घायल हो गए थे. पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि उपायुक्त और पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में राहत अभियान चलाया जा रहा है.

 

सीएम अमरिंदर ने जताया दुख
पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने घटना में लोगों की मौत पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने ट्वीट किया कि बटाला में पटाखा फैक्टरी में विस्फोट में लोगों की मौत की खबर से बेहद दुखी हूं. राहत अभियान जारी है. जिला उपायुक्त और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राहत अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं.


सनी देओल ने ने किया ये ट्वीट
गुरदासपुर से सांसद सनी देओल ने भी घटना पर दुख व्यक्त किया है. देओल ने अपने ट्वीट में कहा कि बटाला में फैक्टरी में विस्फोट की खबर सुनकर दुख पहुंचा है. एनडीआरएफ और जिला प्रशासन की टीम राहत अभियान के लिए पहुंच गई हैं. राहत अभियान में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की टीम लगाई गई हैं. जिला प्रशासन और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर मौजूद हैं.