नई दिल्लीः आरएमएल अस्पताल में कोविड-19 मरीजों के उपचार में शामिल चिकित्सकों एवं नर्सों समेत 14 चिकित्साकर्मियों को उनके घरों में पृथक रहने को कहा गया है और उनके नमूनों की जांच की जा रही है. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. Also Read - सरकार ने होईकोर्ट को बताया, 'महाराष्ट्र में 13 हजार से अधिक कैदियों का कोविड-19 टीकाकरण किया गया'

सूत्रों ने बताया कि एक नर्स को रविवार शाम को बुखार आ गया था, इसलिए पूरी टीम को अपने-अपने घरों में पृथक रहने को कहा गया है. सूत्र ने कहा, ‘‘छह चिकित्सकों एवं नर्सों की यह टीम और अन्य कर्मी कोविड-19 के मरीजों के संपर्क में आए थे. इनमें से एक नर्स को आज शाम से बुखार है जिसके बाद पूरी टीम को घर पर पृथक रहने के लिए भेज दिया गया. उनके नमूने (जांच के लिए) लिए गए हैं.’’ Also Read - Coronavirus Delta Variant: डेल्टा स्वरूप के हावी होने की आशंका, 85 देशों में सामने आए मामले

दिल्ली में कोविड-19 के 72 मामले सामने आए हैं और देशभर में इसके 1,024 मामले दर्ज किए गए हैं. रविवार को दिल्ली में करोना संक्रमण के 30 मामले सामने आए हैं. आपको बता दें कि इस समय देश और दुनिया भर के डॉक्टर्स अपने जीवन की परवाह किए बगैर कोरोना का इलाज करने में लगे हुए हैं. इन्हें संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है.

पीएम मोदी ने भी अपने मन की बात कार्यक्रम में इस बात का जिक्र किया और कहा कि इस कठिन समय में वे जिस तरह से देश की सेवा में लगे हैं हम सब उनके आभारी हैं और देश उनका धन्यवाद करता है. इस पूरे विश्व में कोरोना से लड़ने में डॉक्टर्स एक अहम योगदान दे रहे हैं.