नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के बुराड़ी में एक ही घर में 11 लोगों की रहस्यमयी मौत का मामला उलझता जा रहा है. ये मामला दिल्ली क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया है. वहीं, दिल्ली पुलिस को इस मामले में अब तक कई उलझाने वाले सबूत मिले हैं. इसने पूरे मामले को और गहरा दिया है. हालांकि पुलिस ने इस संबंध में हत्या का मामला दर्ज किया है. Also Read - Delhi Riots: कोर्ट ने उमर खालिद को न्यायिक हिरासत में भेजा, UAPA समेत कई गंभीर धाराएं लगी हैं

Also Read - वेब सिरीज में काम का लालच देकर मांगी बिना कपड़ों की तस्वीरें, 17 साल की लड़की ने भेजीं, फिर...

पुलिस को मिले खास नोट्स Also Read - Delhi Riots: दिल्ली दंगों में करोड़ों रुपये का हुआ था लेन-देन, इन लोगों को मिली थी राशि, ताकि हो सके ये काम...

घर की तलाशी के दौरान पुलिस को हाथ से लिखे नोट्स बरामद हुए हैं जिसमें पूरे परिवार के एक खास तरह की रुहानी और रहस्यमयी प्रथा की ओर इशारा मिल रहा है. खास बात ये है कि ये नोट्स सभी 11 लोगों के शवों की हालत से मिलते जुलते हैं जिसमें उनके मुंह, आंखों और हाथ पर टेप बंधा हुआ था. अब क्राइम ब्रांच इसी तथ्य को ध्यान में रखकर भी जांच को आगे बढ़ा रही है.

दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा कि केस क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिया गया है. हमने घटना स्थल का दौरा किया है. यहां से हाथ से लिखे पत्र बरामद हुए हैं जो    Case has been transferred to us (crime branch) & we’ve inspected the site.Hand-written letters that have been recovered suggest spiritual angle to the deaths.Further investigation will reveal more: Alok Kumar, Joint Commissioner Police

एक ही घर के 11 लोग मरे पाए गए

बता दें कि राजधानी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में आज सुबह रहस्यमय परिस्थितियों में सात महिलाओं सहित एक ही परिवार के 11 सदस्य मृत पाए गए हैं. पुलिस ने बताया कि दस लोग फंदे से लटके मिले. उनकी आंखों पर पट्टी बंधी हुई थी जबकि 75 वर्षीय एक महिला का शव फर्श पर पड़ा हुआ था. दो मृतक नाबालिग हैं.

दिल्ली में एक ही घर में 11 शव मिले, सभी के मुंह और आंखों पर पट्टी थी बंधी

पुलिस के मुताबिक, एक पड़ोसी ने सबसे पहले उन्हें सूचना दी कि छह से सात लोगों ने खुदकुशी कर ली है. लेकिन जब घटनास्थल पर पहुंचा तो पता चला कि एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत हो गई है. स्थानीय लोगों ने बताया कि परिवार प्लाइवुड का व्यापार करता था और वे करीब 20 सालों से इलाके में रहते थे.

पुलिस ने बताया कि वे सभी दृष्टिकोण से मामले की जांच कर रहे हैं. उन्होंने घटना में गड़बड़ी की संभावना से इंकार नहीं किया. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने भी घटनास्थल का दौरा किया.