West-Bengal-Chief-Minister-Mamata-Banerjee-during-a-press-conference-regarding-the-death-of-Trinamool-Congress-M-3पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने असम में हुए उग्रवादी हमले की निंदा करते हुए इसकी तुलना पेशावर के स्कूल जनसंहार से की और उन्होंने हिंसा के बाद पश्चिम बंगाल में शरण लेने वाले लोगों के प्रति समर्थन जताया। राज्य के अलीपुरद्वार में एक राहत शिविर का दौरा करने जाते समय मुख्यमंत्री ने कहा कि शरण लेने वाले एक हजार से अधिक लोगों को राहत प्रदान करने के लिए प्रशासन काम कर रहा है। Also Read - एकता ही भारत की विरासत, हमें आखिरी सांस तक इसकी रक्षा करनी चाहिए: ममता बनर्जी

ममता ने मीडिया से कहा, “जरूरत की इस घड़ी में मैं यहां उनके साथ खड़ी हूं। यह समय राजनीति में उलझने का नहीं है, बल्कि घटना की निंदा करने का है। यह घटना पेशावर में हुए जनसंहार से कम नहीं है।” Also Read - ममता बनर्जी को 5 अगस्त को लॉकडाउन वापस न लेने की कीमत चुकानी पड़ेगी: बीजेपी

उन्होंने कहा, “यह वीभत्स घटना है, जिसकी निंदा के लिए केवल शब्द ही काफी नहीं हैं।” Also Read - National Education Policy 2020: पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री ने सरकार पर खड़ा किए सवाल, कहा- संसद में नहीं किया गया पारित

उन्होंने कहा, “एक हजार से अधिक लोग यहां आ चुके हैं और लोगों का आना जारी है। प्रशासन उनकी हरसंभव मदद कर रहा है। इस भीषण ठंड में अगर लोग उनकी सहायता के लिए आगे आते हैं, तो यह खुशी की बात होगी।”