मंगलुरू. कैफे कॉफी डे (CCD) के संस्थापक और कर्नाटक के पूर्व सीएम एसएम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ (VG Siddhartha) का शव आखिरकार मिल गया. मेंगलुरू की जिस नेत्रावती नदी में कूदकर सिद्धार्थ ने जान दी थी, उसी के किनारे से बुधवार को पुलिस ने उनका शव बरामद किया. समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक वीजी सिद्धार्थ का शव मेंगलुरू के हुइगे बाजार के पास नेत्रावती नदी के किनारे से बरामद हुआ है. मेंगलुरू पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने मीडिया को बताया कि बुधवार की सुबह पुलिस ने नदी से शव बरामद किया.

बिजनेस ट्रिप पर गए थे कैफे कॉफी डे के मालिक वीजी सिद्धार्थ, बीच रास्ते से ही हुए लापता

पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल के मुताबिक नेत्रावती नदी से शव मिलने के बाद पुलिस ने यह सूचना वीजी सिद्धार्थ के परिजनों को दी. नदी से बरामद किए गए शव की पहचान के लिए पुलिस उसे लेकर वेलनॉक हॉस्पिटल चली आई. पाटिल ने कहा कि पुलिस इस मामले की जांच अभी जारी रखेगी. पुलिस की जांच टीम मामले की तह तक जाएगी. इससे पहले मंगलवार को वीजी सिद्धार्थ के रहस्यमय तरीके से लापता होने के बाद पुलिस ने उनकी तलाश शुरू की. सिद्धार्थ के लापता होने के कुछ देर बाद यह खबर आई थी कि एक कार ड्राइवर ने उन्हें नेत्रावती नदी में छलांग लगाते देखा था. इन खबरों की पड़ताल शुरू ही हुई थी कि इस बीच वीजी सिद्धार्थ द्वारा लिखा गया एक कथित पत्र भी सामने आया, जिसमें उन्होंने आत्महत्या जैसे कारणों के उत्पन्न होने की जानकारी दी है.

पुलिस इसके बाद सिद्धार्थ के परिजनों से पूछताछ के लिए बेंगलुरू गई. मंगलुरू के पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने बताया कि पुलिस की एक टीम जांच करने और कार्यालय के कर्मचारियों और रिश्तेदारों से पूछताछ के लिए बेंगलुरू गई थी. निदेशक मंडल को सिद्धार्थ द्वारा लिखे गए कथित पत्र के बारे में पूछे जाने पर आयुक्त ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘सिद्धार्थ के परिवार ने हमें पत्र दिया है, इसलिए यह असली ही होगा.’’ उन्होंने कहा कि हम इसकी विषयवस्तु की पड़ताल कर रहे हैं. इसके लिए एक टीम बेंगलुरू गई है. पाटिल ने कहा कि बेंगलुरू गई टीम कार्यालय के कर्मचारियों और परिजनों से पूछताछ करेगी और तमाम जानकारी जुटाएगी. उन्होंने कहा, ‘‘विस्तृत तकनीकी छानबीन भी चल रही है.’’

कैफे कॉफी डे (CCD) के चेयरमैन वी.जी. सिद्धार्थ ने गायब होने से पहले लिखा ये लेटर

पुलिस के मुताबिक, सिद्धार्थ सोमवार दोपहर बेंगलुरू से हासन जिले में सक्लेशपुर के लिए रवाना हुए थे लेकिन उन्होंने बीच रास्ते में अपने ड्राइवर को मंगलुरू की तरफ चलने को कहा. वह आखिरी बार सोमवार रात दक्षिण कन्नड़ जिले में नेत्रावती नदी पर पुल के पास दिखे थे. पुलिस ने बताया कि उन्होंने अपने ड्राइवर से कहा था कि वह पुल के पास टहलने जा रहे हैं. जब वह नहीं लौटे तो ड्राइवर ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.