मुम्बई: बंबई उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को ‘अलीबाग से आया है क्या?’ कहावत पर प्रतिबंध लगाने की याचिका खारिज करते हुए कहा कि इसमें कुछ भी अपमानजनक नहीं है और इसे अपमान के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए. याचिका के अनुसार यह मुहावरा महाराष्ट्र में आमतौर पर किसी ऐसे व्यक्ति के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिसे मूर्ख या बेहद भोला माना जाता हो. Also Read - Bombay High Court की जज को महिला ने भेजे 150 Condoms, वजह जानकर क्या कहेंगे आप...

Also Read - Toolkit Case: निकिता जैकब को बॉम्बे हाईकोर्ट से राहत, 3 हफ्ते की मिली ट्रांजिट बेल

मुख्य न्यायधीश न्यायमूर्ति प्रदीप नंदराजोग और न्यायमूर्ति एनएम जामदार की पीठ ने महाराष्ट्र के अलीबाग के निवासी राजेन्द्र ठाकुर की जनहित याचिका खारिज कर दी. न्यायमूर्ति नंदराजोग ने कहा, “हर समुदाय पर चुटकुले बने हैं… संता-बंता चुटकुले…मद्रासी चुटकुले और उत्तर भारतीयों पर चुटकुले. मजे लीजिए…अपमानित महसूस मत कीजिए.” Also Read - सुशांत सिंह राजपूत की बहन प्रियंका पर हाईकोर्ट ने दिया ये फैसला, रिया चक्रवर्ती ने दर्ज की थी शिकायत

पीठ ने कहा, “हमें इसमें कुछ भी अपमानजनक नहीं मिला.” ठाकुर ने याचिका में कहा था कि कहावत “अपमानजनक और गलत है” क्योंकि इसमें अलीबाग के लोगों को निरक्षर दर्शाया जाता है.

गौतम गंभीर का ‘दर्द’ छलका- जैसा मेरे, सचिन और वीरू के साथ हुआ, धोनी के साथ भी वैसा ही हो

इंग्लैंड के जिस खिलाड़ी ने छीना वर्ल्डकप, अब उसी को सिर आंखों पर बैठा रहा न्यूजीलैंड, ये है वजह