नयी दिल्ली: पूर्व रक्षा मंत्री जार्ज फर्नांडिस का यहां लोधी रोड स्थित शवदाह गृह में अंतिम संस्कार होगा. उनकी इच्छा के मुताबिक दाह संस्कार के बाद उनकी अस्थियों को दफनाया जाएगा. उनकी करीबी सहयोगी जया जेटली ने यह जानकारी दी. गौरतलब है कि फर्नांडिस का लंबी बीमारी के बाद मंगलवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया. वह 88 वर्ष के थे.

कभी आरएसएस और बीजेपी के घोर आलोचक थे जॉर्ज फर्नांडिस, नीतीश को बीजेपी गठबंधन में ले आए

समता पार्टी की पूर्व प्रमुख ने कहा कि फर्नांडिस शुरू में चाहते थे कि मृत्यु के बाद उनके पार्थिव शरीर का दाह संस्कार किया जाए लेकिन बाद में उन्होंने दफन किए जाने की भी इच्छा जताई थी. जेटली ने संवाददाताओं से कहा कि अंतिम संस्कार लोधी रोड स्थित शवदाह गृह में होगा. हम उनकी इच्छानुसार दोनों चीजें करेंगे. पार्थिव शरीर का दाह संस्कार किया जाएगा और उसके बाद अस्थियों को दफना कर उनकी दोनों इच्छाओं को पूरा किया जाएगा.

8 भाषा जानने वाला नेता, जिसकी एक आवाज पर पूरे देश में हुई थी रेल हड़ताल, इंदिरा को दी थी चुनौती

समाजवादी नेता फर्नांडिस करगिल युद्ध (1999) के समय रक्षा मंत्री रहे थे. उन्होंने 1977 में कोका कोला को देश से अपना कारोबार समेटने पर मजबूर किया था. जेटली ने बताया कि फर्नांडिस अल्जाइमर से ग्रस्त थे जिसके चलते वह कई साल से सार्वजनिक रूप से नहीं दिखे थे. कर्नाटक में मंगलुरू के एक ईसाई परिवार में जन्में फर्नांडिस मुंबई में मजदूर संगठन के नेता के तौर पर राष्ट्रीय फलक पर उभरे थे और उन्होंने 1974 में रेलवे की एक हड़ताल का आह्वान किया था, जिससे पूरा देश ठहर गया था.