कोलकाता. पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले में सोमवार को भड़की सांप्रदायिक हिंसा फैल गई. वहीं अब इन सभी से निपटने के लिए सीएम ममता बनर्जी की सरकार ने शांतिरक्षक बलों के गठन का फैसला किया है. ममता बनर्जी ने बीजेपी पर राज्य में सांप्रदायिक उन्माद फैलाने का आरोप भी लगाया है. जिसमें स्थानीय पुलिस की मदद से जिम्मेदार नागरिकों को शामिल किया जाएगा.Also Read - Time Magazine की 100 'सबसे प्रभावशाली लोगों' की सूची में PM मोदी, ममता बनर्जी और अदार पूनावाला भी शामिल

वहीं पूरे पश्चिम बंगाल में अशांत स्थिति होने का दावा करते हुए बीजेपी की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के इस्तीफे की मांग की और केंद्र से राज्य में तत्काल प्रभाव से राष्ट्रपति शासन लगाने का आग्रह किया. घोष ने कहा, राज्य के उत्तर में पहाड़ी इलाकों से शुरू होकर बंगाल की खाड़ी तक, पूरा राज्य जल रहा है. सांप्रदायिक तनाव की घटनाएं भी राज्य के कई हिस्सों में बार बार घट रही हैं. Also Read - Bhawanipur bypoll: नोटिस मिलने पर BJP प्रत्याशी ने कहा- मैंने भीड़ का नेतृत्व नहीं किया, ये देखना मेरा काम नहीं

Also Read - Bhabanipur By-Polls: चुनाव आचार संहिता के कथित उल्लंघन को लेकर BJP उम्मीदवार को निर्वाचन आयोग का नोटिस

बता दें कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से हिंसा से उपजे हालात पर विस्तृत रिपोर्ट तलब की है. इस बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी से टेलीफोन पर बात कर स्थिति की जानकारी ली. गौरतलब हो कि फेसबुक पर डाली गई एक आपत्तिजनक पोस्ट के बाद पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में बादुड़िया और आसपास के क्षेत्र में सांप्रदायिक हिंसा फैल गई.