नई दिल्ली. सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की तरफ से बिना उकसावे के किये जा रहे संघर्ष विराम का मुंहतोड़ जवाब दिया है. पाकिस्तान के खिलाफ सटीक जवाबी कार्रवाई करते हुये पिछले चार दिनों में बीएसएफ ने मोर्टार के 9000 ये ज्यादा गोले दागे. इस दौरान कई जगहों पर दुश्मन की चौकियों और पाकिस्तानी रेंजर्स के तेल डिपो को तबाह किया गया. Also Read - आतंकी आकाओं पर लगाम लगाने में फेल इमरान, FATF की ग्रे लिस्ट में ही रहेगा पाकिस्तान

Also Read - आतंकी संगठनों को मदद दे रहा है पाकिस्तान, सुरक्षित वातावरण मुहैया कराना जाना जारी: विदेश मंत्रालय

बीएसएफ और गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि जम्मू से लगी 190 किलोमीटर की अंतरराष्ट्रीय सीमा का इलाका बेहद तनावपूर्ण है क्योंकि पाकिस्तान कल शाम से ही इस समूचे इलाके में भारी फायरिंग कर रहा है. उन्होंने कहा कि बीएसएफ ने 19 जनवरी से अब तक मोर्टार के करीब 9000 गोले दागे हैं. Also Read - कश्मीर में भारत 22 अक्टूबर को मनाएगा 'काला दिवस', 1947 में पाकिस्तान ने घाटी में कराई थी हिंसा

पाकिस्तान द्वारा इलाके की शांति भंग करते हुये बीएसएफ की चौकियों और नागरिक इलाकों को निशाना बनाया गया था. उन्होंने कहा कि मोर्टार से की जा रही गोलाबारी, गोला-बारूद से दुश्मनों को जवाब देने के अतिरिक्त है. बीएसएफ ने कहा कि बल सटीक गोलीबारी कर जवाबी कार्रवाई कर रहा है जिस दौरान पाकिस्तानी रेंजर्स की तरफ से गोलीबारी करने वाले ठिकानों, मोर्टार पोजीशन्स, आयुध और तेल डिपो को नष्ट किया गया है.

VIDEO: बीएसएफ ने तबाह कीं पाकिस्तानी चौकियां और गोला बारूद

VIDEO: बीएसएफ ने तबाह कीं पाकिस्तानी चौकियां और गोला बारूद

बल ने दो छोटे वीडियो क्लिप्स भी जारी किये जिसमें कथित तौर पर तेल डिपो की तबाही को दर्शाया गया है. उन्होंने कहा कि जम्मू सीमा का चिकेन नेक इलाका भी पाकिस्तानी बलों की गोलाबारी का निशाना बना है जो अब तक इससे अछूता था. यह जगह बीएसएफ की मकवाल और कानाचक सीमा चौकी के पास है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, इन इलाकों में सुरक्षा बल का एक जवान और कुछ नागरिक घायल हुये हैं. यहां कल से ही पाकिस्तान की तरफ से भारी फायरिंग की जा रही है. सूत्रों ने कहा कि भारतीय बलों ने सीमा पार अग्रिम चौकियों पर रेंजर्स और पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ कमांडरों की आवाजाही भी देखी है.

अधिकारियों ने कहा, जहां तक हम समझते हैं यह दौरा पाकिस्तानी कमांडरों ने अपने सैनिकों का उत्साह बढ़ाने के लिये किया है जिन्हें भारत की जवाबी कार्रवाई में भारी नुकसान हुआ है. यह भी समझा जा सकता है कि भारत की कार्रवाई में उनके कई जवान हताहत हुये हैं. उन्होंने कहा कि पाक रेंजर्स ने बीएसएफ से बातचीत और फ्लैग मीटिंग से अब तक इनकार किया है. उन्होंने कहा कि जम्मू इलाके में बीएसएफ की सभी सीमा चौकियों को हाई अलर्ट पर रखा गया है और वरिष्ठ कमांडरों को कहा गया है कि कम से कम अगले एक हफ्ते तक सीमा पर ही रहें.