उज्जैन| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने महाराष्ट्र के पुणे सहित कुछ शहरों में पिछले दो दिन से हुई जातीय हिंसा के लिए आज हिन्दू विरोधी तत्वों को दोषी ठहराया और इन्हें ‘ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड’ नाम देते हुए कहा कि इस तरह के ब्रिगेड ने जेएनयू में वर्ष 2016 में भी राष्ट्र विरोधी नारे लगाये थे. Also Read - RSS worker killed in Kerala: केरला में दो संगठनों की झड़प में आरएसएस कार्यकर्ता की मौत

वैद्य ने संवाददाताओं को बताया,  यह ‘ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड’ है, जिसने जेएनयू में ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ के नारे भी लगाये थे. वे धर्म एवं जाति के नाम पर समाज को तोड़ना चाहते हैं. वे हिन्दू समाज को बांटना चाहते हैं. संघ इसकी घोर निंदा करता है. आरएसएस कभी भी ऐसी मानसिकता का समर्थन नहीं करता. उन्होंने कहा कि संघ समाज के सभी वर्गों को एक करके साथ चलने का आह्वान करता है. Also Read - Kerala: Alappuzha में SDPI वर्कर्स से झड़प में RSS कार्यकर्ता की हत्‍या, BJP और Hindu संगठनों ने बंद बुलाया

वैद्य से सवाल किया गया था कि राहुल गांधी तो कह रहे हैं कि पुणे दलित हिंसा में आरएसएस का हाथ है. इसका जवाब देते हुए उन्होंने यह बात कही. वैद्य ने बताया कि कुछ राजनीतिक दल जाति, भाषा, धर्म एवं प्रांत के नाम पर समाज में विभेद कर रहे हैं. ये लोग ही जेएनयू में ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ जैसी बातों का भी समर्थन करते हैं. Also Read - Ram Mandir निर्माण के लिए मुस्लिम समुदाय से लिया जाएगा चंदा, लखनऊ से अभियान की होगी शुरुआत

उन्होंने कहा कि इस मानसिकता को ‘ब्रेकिंग इंडिया पुस्तक’ के लेखक राजीव मलहोत्रा ने बड़े ही स्पष्टता से बताया है कि ऐसा करके वे राजनैतिक लाभ पाना चाहते हैं. वैद्य ने आगे कहा, ये ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड है. इसीलिए इस तरह के कारनामे कर रही है. इसे हम कामयाब नहीं होने देंगे.