बेंगलुरु: कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के मद्देनजर बेंगलुरु में मंगलवार से सात दिवसीय लॉकडाउन लागू किया जाएगा. इ, बीच राज्य सरकार ने कर्नाटक के दो और जिलों में भी लॉकजाउन की घोषणा कर दी है. राज्य सरकार ने दक्षिण कन्नड जिला और Also Read - कर्नाटक के एक व्यवसायी ने पत्नी के लिए किया कुछ ऐसा, जानकर आप भी कहेंगे-भई वाह!

धारवाड़ (हुबली- धारवाड़) में भी लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है. एक अधिकारी ने बताया कि दक्षिण कन्नड जिला में 15 जुलाई से 22 जुलाई तक लॉकडाउन रहेगा तो वहीं धाड़वार (हुबली- धारवाड़) में 15 जुलाई से 24 जुलाई तक लॉकडाउन रहेगा. Also Read - बाढ़ स्थिति की समीक्षा के लिए छह राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी की बैठक, कई मंत्री भी रहे मौजूद

दक्षिण कन्नड जिला की बात करें तो यहां पिछले तीन दिनों में कोविड-19 के 500 से ज्यादा मामले सामने आये हैं और 11 से ज्यादा मरीजों की मौत हो चुकी है. इससे पहले कोविड-19 संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के मद्दनेजर कर्नाटक सरकार ने शनिवार को बेंगलुरु के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में 14 से 22 जुलाई तक पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी. लॉकडाउन 14 जुलाई रात आठ बजे से 22 जुलाई सुबह पांच बजे तक लागू रहेगा. Also Read - Coronavirus Cases In Karnataka: कोरोना की चपेट में कर्नाटक, एक्टिव मामलों की संख्या दिल्ली से अधिक

गौरतलब है कि देश में जहां कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 8.5 लाख के करीब पहुंच गए हैं वहीं आने वाले दिनों में बेंगलुरु और पुणे समेत कई शहरों के अधिकारी अलग-अलग अवधियों के लिए लॉकडाउन पुन: लागू करने की तैयारी कर रहे हैं. उधर राजधानी दिल्ली में स्थिति में कुछ सुधार दिखाई दिया है.

विपक्षी दलों ने सरकार से पूरे राज्य में लॉकडाउन लागू करने का आग्रह किया
विपक्षी दलों ने कर्नाटक सरकार से पूरे राज्य में लॉकडाउन लागू करने का आग्रह किया है. जनता दल(सेक्यूलर) के नेता एच डी देवेगौड़ा और कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खांडरे ने पूरे राज्य में लॉकडाउन लागू करने की मांग की है. बेंगलुरु के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में लॉकडाउन लागू करने के सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए देवेगौड़ा ने कहा, “मैं सरकार से पूरे राज्य में लॉकडाउन लागू करने का मीडिया के माध्यम से आग्रह करता हूं.”

पूर्व प्रधानमंत्री ने राज्य और पूरे देश के लोगों से अपील की कि वे बाहर निकलते समय मास्क पहनें, सामाजिक दूरी बनाए रखें, नियमित रूप से सैनिटाइजर से हाथ साफ करें और जरूरी काम होने पर ही बाहर निकलें. उन्होंने कहा कि संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए उपायों और राहत पैकेज को लागू करने में अनियमितताओं को लेकर सरकार के खिलाफ कई नेताओं ने आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा, “इस बारे में अगले विधानमंडल सत्र में चर्चा करेंगे. फिलहाल लोगों का स्वास्थ्य महत्वपूर्ण हैं इसलिए इस पर ध्यान केंद्रित करते हैं.’ देवेगौड़ ने कहा कि सरकार को इस दिशा में काम करना चाहिए. ‘‘हम सभी सरकार के साथ हैं, कृपया लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ न करें.’’

इस बीच, कांग्रेस नेता खांडरे ने मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को याद दिलाया कि कोविड-19 ​​के मामले न केवल बेंगलुरु में, बल्कि राज्य के सीमावर्ती जिलों में भी बढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि बीदर, कलबुर्गी, यादगीर, रायचूर, कोप्पल, बल्लारी जिलों में स्थिति नियंत्रण से बाहर हो रही है. उन्होंने कहा, “राज्य में कम से कम पंद्रह दिन के लिए एक बार फिर से सख्त लॉकडाउन लागू कर स्थिति को नियंत्रण में लाएं. मैं सरकार से अपील करता हूं कि इस लॉकडाउन अवधि में अपनी पिछली कमियों को सुधारें और भविष्य में महामारी से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएं.”