नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन के कारण रोजगार गंवाने वाले प्रवासी मजदूरों की मदद की घोषणा की गई है. पीएम केयर फंड (PM Care Fund) से प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए केंद्र सरकार द्वारा एक हज़ार करोड़ रुपए दिए जाएंगे. Also Read - चीन से तनाव पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का बयान- 'नरेंद्र मोदी के भारत को कोई आंख नहीं दिखा सकता'

इसके साथ ही दो हज़ार करोड़ रुपए वेंटिलेटर खरीदने को दिए जाएंगे. इससे 50 हज़ार वेंटिलेटर खरीदे जाएंगे. 100 करोड़ रुपए कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए दिए जा रहे हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार, पीएम केयर फंड में से आज 3100 करोड़ रुपए खर्च करने का ऐलान दिया गया है. Also Read - India China News: भारत-चीन के बीच क्यों है तनातनी, क्या है विवाद, जानें हर बात...

आज ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा आर्थिक पैकेज से किसे और कैसे मदद की जाएगी, इसका ऐलान किया है. इसके बाद आज दिन की ये दूसरी बड़ी घोषणा है. Also Read - लद्दाख गतिरोध: रक्षा मंत्री के बाद पीएम मोदी ने की अजीत डोभाल, CDS जनरल रावत व तीनों सेना प्रमुखों से मुलाकात

बता दें कि लॉकडाउन के बाद पीएम मोदी ने लोगों से पीएम केयर फंड में रुपए दान करने को कहा था. इसके बाद देश के कई लोगों ने पीएम केयर फंड में रुपए भेजे थे. पीएम केयर फंड कोरोना संकट के बाद बनाया गया था. देश की कई बड़ी हस्तियों ने पीएम केयर फंड में करोड़ों रुपए दान किए. हालाँकि विपक्षी पार्टियाँ इस पर सवाल उठती रही हैं कि जब पहले से ही एक पीएम कोष मौजूद था तो नया कोष क्यों बनाया गया और इसे सूचना के अधिकार से बाहर क्यों रखा गया. पारदर्शिता को लेकर उठे सवाल के बीच कई लोग पीएम केयर फंड के हिसाब की मांग भी कर रहे हैं.