मुंबई: रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.एक इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए कथित तौर पर उकसाने के मामले में बुधवार को गिरफ्तार किए गए रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को महाराष्ट्र के अलीबाग की एक अदालत ने 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया. Also Read - अर्नब गोस्वामी को क्यों दी गयी अंतरिम जमानत? वजहों के बारे में बताएगा सुप्रीम कोर्ट

कोर्ट ने पुलिस हिरासत की याचिका खारिज कर दी. रिमांड आदेश लगभग छह घंटे की मैराथन सुनवाई के बाद पारित किया गया. गोस्वामी को आज सुबह रायगढ़ पुलिस ने उनके मुंबई आवास से गिरफ्तार किया था. जिसके बाद उन्हें बुधवार शाम लगभग 5.30 बजे मजिस्ट्रेट के सामने लाया गया. Also Read - महिलाओं को Whats App पर Nude Pics और Porn Video भेजता था सेल्समेन, फिर...

गोस्वामी ने जमानत के लिए अर्जी दी और अदालत ने जांच अधिकारी को जवाब दाखिल करने को कहा. पत्रकार गोस्वामी के वकील गौरव पारकर ने इस बारे में बताया. उन्होंने कहा कि अलीबाग की एक अदालत में पुलिस ने गोस्वामी की 14 दिनों की हिरासत देने का अनुरोध किया. Also Read - Mumbai Local News Update: पहले महिला को बचाया फिर उसी के साथ करवाई छेड़खानी और छिनतई

रायगढ पुलिस की एक टीम ने गोस्वामी (47) को सुबह में मुंबई में उनके आवास से हिरासत में लिया था. उन्हें पुलिस वैन में बैठाया गया. गोस्वामी ने दावा किया था कि पुलिस ने उनके साथ हाथापाई की. एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘पुलिस ने आईपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) और 34 (समान मंशा के साथ लोगों द्वारा किया गया कृत्य) के तहत गोस्वामी को गिरफ्तार किया.’’

इससे पहले एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह मामला 2018 में एक इंटीरियर डिजाइनर को कथित तौर पर आत्महत्या के लिए उकसाने से संबंधित है.

(इनपुट भाषा)