नई दिल्ली: देश में एक के बाद एक कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं. ऐसे में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज मीडिया को संबोधित किया. इस दौरान सीएम केजरीवाल ने दक्षिण कोरिया का उदाहरण देते हुए कहा कि हमें दक्षिण कोरिया की तरह ही कोरोना से एक कदम आगे रहने की जरूरत है. क्योंकि अगर हम इससे आगे रहेंगे तभी इसपर कंट्रोल कर पाएंगे. उन्होंने बताया कि आखिर कैसे दक्षिण कोरिया ने एक के बाद एक कई टेस्ट कर व नियमों को इमानदारी से लागू कर कोरोना पर काबू पा लिया. इस संबोधन के दौरान केजरीवाल ने कहा कि हमने कोरोना वायरस को रोकने के लिए 5T प्लान बनाया है. इस प्लान को फॉलो कर हम कोरोना वायरस पर नियंत्रण पा सकते हैं. Also Read - पश्चिम बंगाल में और छूट और शर्तों के साथ लॉकडाउन की अवधि 15 जून तक बढ़ाई गई

सीएम ने कहा कि 5T पर बोलते हुए कहा कि पहला T है प्लानिंग और टेस्टिंग. इसमें हमें ज्यादा से ज्यादा मात्रा में संदिग्धों की कोरोना टेस्टिंग कराने की आवश्यकता है. दूसरा T है ट्रेसिंग प्लान. इस प्लान में हमें लोगों को ट्रेस करना होगा कि आखिर कोरोना की पहुंच किन लोगों तक है. केजरीवाल ने तीसरे T पर कहा कि इसका मतलब है ट्रीटमेंट. इस श्रेणी में हम लोगों का ट्रेस व टेस्ट करने के बाद उनका इलाज कर उन्हें स्वस्थ कर सकते हैं. चौथे T का मतलब है टीम वर्क. सीएम सभी सरकारों और एजेंसियों को लेकर कहा कि हम सब मिलकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं और जरूरी मदद कर रहे हैं. ऐसे में हम सभी को एक साथ आकर कोरोना के खिलाफ लडाई लड़नी होगी. वहीं पांचवे T का मतलब है, ट्रैकिंग और मॉनिटरिंग- सीएम केजरीवाल ने कहा कि सभी प्लान्स पर मेरी खुद की नजर है. Also Read - दिल्ली में कोरोना का नया रिकॉर्ड, 1 दिन में 1163 नए मामले सामने आए

केजरीवाल ने अपने संबोधन में आगे कोरोना मरीजों की संख्या को लेकर कहा कि राज्य में अबतक कुल 525 कोरोना संक्रमित लोग है. फिलहाल इनका इलाज चल रहा है. उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा मामले मरकज और शाहदरा से सामने आए हैं. इस दौरान केजरीवाल ने कई बड़ी बातों पर लोगों का ध्यान भी खींचा. उन्होंने कहा कि हमने राज्य में कोरोना के मरीजों के लिए 2950 बेड्स की सुविधा उपलब्ध कराई है. अगर यह संख्या बढ़कर 3 हजार से 30 हजार भी हो जाएगी तब भी हम हालात को संभाल लेंगे. अगर जरूरत पड़ी तो दिल्ली के कई होटलों के 12 हजार कमरों को भी टेकओवर भी कर लिया जाएगा. इसी कड़ी में सीएम ने डॉक्टरों और नर्सों को लेकर कहा कि ये हमारे टीम का अहम हिस्सा हैं. इनके साथ इनके पड़ोसियों और मकान मालिकों के गलत व्यवहार को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि हमने इस मामले में पुलिस की मदद लेनी भी शुरु कर दी है. हमने पुलिस को 27,702 लोगों के फोन नंबर उपलब्ध कराए हैं. यह वे लोग हैं जिन्हें क्वारंटीन किया गया है. इस दौरान पुलिस निगरानी करेगी कि जिन लोगों को क्वारंटीन किया गया है क्या वो घर में ही रह रहे हैं या नहीं. साथ ही मर्कज से निकाले गए 2000 लोगों के फोन नंबर्स को भी सराकर पुलिस को देने जा रही है. ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या वह आस पास के इलाके में घूमते फिरते पाए गए हैं. अगर ऐसा होता है तो पूरे एरिया को सील कर दिया जाएगा और निगरानी रखी जाएगी.