नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि लॉकडाउन का विस्तार करने के लिए केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश काफी हद तक दिल्ली में भी मान्य होंगे. इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली में क्या खोला
जाएगा और क्या नहीं इसको लेकर विस्तार में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि दिल्ली मैट्रो सेवा, स्कूल, कॉलेज सभी बंद रहेंगे. देशव्यापी लॉकडाउन 4.0 के मद्देनजर सिनेमा हॉल, शापिंग मॉल, जिम, बार और थियेटर सभी बंद रहेंगे. इन्हें खोलने को लेकर दिल्ली सरकार ने कोई रियायत नहीं दी है. Also Read - दिल्ली के सभी बॉर्डर सील, एंट्री के लिए आपके पास होना चाहिए यह पास

ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, “ हमें धीरे-धीरे अर्थव्यवस्था को खोलने की दिशा में आगे बढ़ना होगा. हमने लॉकडाउन की अवधि का उपयोग कोविड-19 से निपटने की व्यवस्था करने में किया. दिल्ली के निवासियों ने पिछले डेढ़ महीने में जो तपस्या की है, वह बेकार नहीं जाएगी.’’ उन्होंने कहा, ‘ कोरोना वायरस रहेगा, लेकिन जीना भी जारी रखना होगा. हम स्थायी तौर पर लॉकडाउन नहीं कर सकते.’ Also Read - दिल्‍ली के सभी बॉर्डर सील, पुलिस कर रही सख्‍त चेकिंग, सिर्फ जरूरी सेवाओं को ही है छूट

मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में सभी तरह की दुकानें खोलने की अनुमति रहेगी और बाजार में स्थित दुकानें सम-विषम के आधार पर खोली जाएंगी. गली-मोहल्ले और रिहायशी परिसरों की दुकानें भी खुली रहेंगी. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर दुकानदार सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते नहीं पाए गए तो अधिकारी ऐसी दुकानों को बंद कराएंगे. केजरीवाल ने कहा कि शहर में सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना और मास्क पहनना अनिवार्य है. जरूरी सेवाओं के अलावा निषिद्ध क्षेत्र में किसी तरह की गतिविधि की छूट नहीं होगी. Also Read - CM अरविंद केजरीवाल ने मांगे सुझाव- क्या दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्ली वालों के लिए रिजर्व हों बेड? हां, या नहीं

उन्होंने कहा कि शहर में बसों में चढ़ने से पहले लोगों की जांच की जाएगी और केवल 20 लोगों को ही यात्रा की अनुमति रहेगी. बस स्टॉप और यात्रा के दौरान बसों में सामाजिक दूरी के नियमों का पालन सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी परिवहन विभाग की होगी. इसके अलावा, टैक्सी समेत सभी चार पहिया वाहनों में केवल दो यात्रियों को बैठाने की अनुमति होगी. उन्होंने कहा कि टैक्सी, ऑटो और कैब चालकों को हर यात्रा के बाद सवारी के उतरने पर सीट को संक्रमणमुक्त करना होगा.

केजरीवाल ने कहा कि दो पहिया वाहनों को अनुमति दी जाएगी लेकिन पीछे की सीट पर किसी को बैठाकर यात्रा करना प्रतिबंधित होगा. उन्होंने कहा कि सभी सरकारी और निजी कार्यालयों को अपने पूरे कर्मचारियों को बुलाने की अनुमति रहेगी लेकिन, निजी कार्यालय संभव हो तो, कर्मचारियों से घर से ही काम करवाने की कोशिश करें. मुख्यमंत्री ने कहा, “दिल्ली में भवन निर्माण कार्य और सामान ले जाने वाले ट्रकों को आवाजाही की अनुमति होगी.”

केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में 31 मई तक धार्मिक सभाओं पर रोक है. साथ ही रेस्तरां होम-डिलीवरी के लिए खुल सकते हैं लेकिन रेस्तरां में डाइनिंग सेवा की अनुमति नहीं होगी. केजरीवाल ने कहा कि विवाह समारोह में केवल 50 लोग जबकि अंतिम संस्कार में अधिकतम 20 लोग शामिल हो सकते हैं. केंद्र सरकार ने रविवार को कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन में थोड़ी और ढील देते हुए इसे 31 मई तक बढ़ा दिया.

गौरतलब है कि दिल्ली में कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या सोमवार को बढ़ कर 160 हो गई जबकि संक्रमण के मामले 10,000 के पार चले गए . अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के 299 नए मामले सामने आए हैं जबकि फिलहाल इसके 5,409 मरीजों का उपचार चल रहा है. कोरोना वायरस के मामले 10,000 के पार जाने के साथ ही दिल्ली ऐसा चौथा राज्य/केंद्रशासित प्रदेश बन गया है जहां इस महामारी के मामले 10000 से ऊपर हो गये.

दिल्ली सरकार की नई गाइडलाइन्स

  • मेट्रो, स्कूल, कॉलेज, होटल मॉल, जिम, स्विमिंग पूल, थेएटर बन्द रहेंगे
  • धार्मिक स्थल बन्द रहेंगे
  • धर्मिक कार्यक्रम बन्दनाई की दुकान, सलून बन्द
  • शाम 7 से सुबह 7 बजे तक घर से निकलने पर मनाही
  • रेस्तरां को इजाजत, पर सिर्फ होम डिलीवरी
  • ट्रांसपोर्ट खुलेगा
  • ऑटो रिक्शा में एक यात्री
  • कार पूलिंग अलॉव नही होगा
  • टैक्सी में 2 यात्री
  • ग्रामीण सेवा 2 यात्री
  • बस शुरू होगी लेकिन 20 से ज्यादा यात्री की इजाजत नहीं होगी.
  • प्राइवेट गाड़ी चलेंगी, गाड़ी में 2 यात्री
  • बाइक पर एक व्यक्ति
  • सभी मार्किट खुलेंगे, ओड इवन के हिसाब से
  • जरूरी समान की दुकान रोज खुलेगी, लेकिन सोशल डिस्टेनसिंग का पालन करना होगा
  • इंडस्ट्री खुलेगी – सभी सरकारी और प्राइवेट आफिस खुलेंगे, लेकिन वर्क फ्रॉम होम को तरजीह दें
  • निर्माण कार्य शुरू, केवल दिल्ली में रहने वाले मजदूरों के साथ होगा काम.
  • कंटेन्मेंट जोन में कोई ऐक्टिविटी नही – सबके लिये मास्क जरूरी.