नई दिल्ली: कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) बीजेपी (BJP) में शामिल हो गए हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी मुख्यालय में बीजेपी में शामिल होने का ऐलान किया. इस दौरान बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) यहां मौजूद रहे. ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में शामिल होने के लिए ठीक ढाई बजे बीजेपी मुख्यालय पहुंचे. एक दिन पहले ही ज्योतिरादित्य सिंधिया से कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. ज्योतिरादित्य ने सोनिया गांधी को इस्तीफा भेजा था. इस्तीफे में उन्होंने कहा था कि जो अभी हो रहा है, वो सब एक साल पहले ही तय हो गया था. Also Read - मध्य प्रदेश में बेकाबू रेत माफिया लॉकडाउन में भी कर रहे हैं खनन, ग्वालियर में सरकारी अमले पर किया हमला

ज्योतिरादित्य सिंधिया: वो राजनेता जिन्हें आज भी है ‘महाराजा’ का दर्जा, विदेश से नौकरी छोड़ शुरू की थी पॉलिटिक्स Also Read - Coronavirus Latest Update in Madhya Pradesh: राज्य में टोटल लॉकडाउन, दूध और दवा के अलावे कोई दुकान नहीं खुलेगी

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार जाएगी या नहीं, ये आने वाले दिनों में तय हो जाएगा, लेकिन आज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है. मध्य प्रदेश में सरकार में बने रहना अब कांग्रेस के लिए चुनौती होगी. क्योंकि कई विधायक सिंधिया के साथ जाने को तैयार हैं. और समर्थन में इस्तीफा भी दे चुके हैं.

ज़फर इस्लाम, जिन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया और बीजेपी के बीच करा डाली इतनी बड़ी डील, पटकथा लिखने को हर जगह रहे मौजूद

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कांग्रेस के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का जाना बड़ा झटका है, क्योंकि कांग्रेस को मध्य प्रदेश में 15 साल बाद सत्ता में पहुंचाने में सिंधिया की भूमिका बेहद बड़ी थी. उन्होंने बीजेपी को हारने की कसम ली थी और हुआ भी कुछ ऐसा ही था, लेकिन कांग्रेस सरकार बनने के बाद भी सिंधिया को शायद वो सब नहीं मिल पाया, जिसकी उन्हें उम्मीद थी. कांग्रेस का महासचिव तो बना दिया गया लेकिन सिंधिया को लग रहा था कि मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में उन्हें अलग-थलग कर दिया गया. वह इसी बात से नाराज थे.

कांग्रेस नेताओं का दावा- हम बहुमत साबित करेंगे, जो ज्योतिरादित्य सिंधिया संग गए, वो भी हमारे साथ हैं

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार संकट में है. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी छोड़ दी है, इसके बाद से अब तक 20 से ज़्यादा विधायक पार्टी छोड़ चुके हैं. कांग्रेस सरकार को अब बहुमत साबित करना पड़ेगा, जो बड़ी चुनौती होगी. उथल-पुथल के बीच कांग्रेस ने अभी हार नहीं मानी है. कांग्रेस नेताओं का कहना है कि कमलनाथ सरकार को कोई संकट नहीं होगा.

ये हैं ‘महारानी’ प्रियदर्शिनी, जिन्हें देखते ही दिल दे बैठे थे ज्योतिरादित्य सिंधिया, दुनिया की 50 खूबसूरत महिलाओं में रही हैं शामिल