नई दिल्ली: जामिया नगर हिंसा मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. एक अधिकारी ने कहा कि इनमें से कोई भी विश्वविद्यालय का छात्र नहीं हैं. ये सभी अपराधिक छवि के हैं. गौरतलब है कि रविवार के दिन जामिया नगर इलाके में प्रदर्शनकारियों ने डीटीसी की बसों में आग लगा दिया था. इसके बाद नौबत झड़प तक आ गई. हालात को काबू करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा.

पुलिस के अनुसार किसी भी छात्र को गिरफ्तार नहीं किया गया है. पुलिस ने दंगा भड़काने और सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने को लेकर मामला दर्ज किया है. पुलिस द्वारा आंसू गैस के गोले दागने और लाठी चार्ज करने के बाद इस मामले ने तूल पकड़ा और प्रदर्शन और भी ज्यादा उग्र हो गया. इस मामले को लेकर देश के कुछ विश्वविद्यालय के छात्र जामिया के छात्रों के समर्थन में खड़े दिखे.

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की वाइस चांस्लर नजमा अख्तर के अनुसार, विश्वविद्यालय के कुळ 200 छात्र इस प्रदर्शन में घायल हुए हैं. उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस के बलपूर्वक कैंपस में घुसने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन दिल्ली पुलिस के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज कराएगी.