नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) में मारे गए लोगों की संख्या बढ़कर 42 पहुँच गई है. दिल्ली में फ़िलहाल शांति है. हालाँकि इलाकों में अभी तनाव है. फिर भी बाज़ारों में चहल-पहल बढ़ गई है. इसी बीच अकाली दल नेता प्रकाश सिंह बादल ने दिल्ली हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया है. प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि देश में धर्मनिरपेक्षता (Secularism) और समाजवाद (Socialism) नहीं बचा है. देश में ये दोनों ही चीज़ें नहीं हैं. ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. सभी का देश में एक साथ रहना बेहद ज़रूरी है. Also Read - Delhi Violence: PFI का दिल्ली प्रमुख परवेज व सचिव इलियास गिरफ्तार, कोर्ट ने 7 दिन की हिरासत में भेजा

प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) ने कहा कि लोकतंत्र सिर्फ चुनाव के स्तर तक ही रह गया है. ये बहुत बड़ी बदकिस्मती है. देश में समाजवाद नहीं है. अमीर और अमीर होता जा रहा है. गरीब और गरीब हो रहा है. सबको अमन चैन से रहना ज़रूरी है. पुलिस इलाकों में फ्लैग मार्च कर रही है. Also Read - दिल्ली हिंसा में किसी के साथ नहीं होगा पक्षपात, आरोपी को पाताल से भी ढूंढ कर लाएंगे: अमित शाह

बता दें कि दिल्ली हिंसा ने सभी को हिलाकर रख दिया है. तीन दिन तक चली हिंसा में अब तक 42 लोगों की मौत हो चुकी हैं, जबकि दर्जनों घायलों का इलाज चल रहा है. पिछले 60 घंटे से हालात काबू में हैं, लेकिन इलाकों में तनाव है. अधिकतर बाज़ार अब भी बंद हैं. उत्तरपूर्व जिले के प्रभावित इलाकों में सोमवार से करीब 7,000 अर्द्धसैनिक बल तैनात हैं. शांति कायम रखने के लिए दिल्ली पुलिस के सैकड़ों कर्मी ड्यूटी पर हैं.

दिल्ली के उत्तर पूर्व इलाके में 24 और 25 फरवरी को हुई हिंसा के बाद अस्पतालों में घायलों को लाये जाने का सिलसला अब थम गया है. दिल्ली के लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल(एलएनजेपी) में गुरुवार रात से कोई भी नया मरीज नही लाया गया है. अस्पताल के डिप्टी चीफ मेडिकल ऑफिसर रितु सक्सेना ने बताया कि गुरुवार रात 10.00 बजे के बाद से हिंसा से प्रभावित एक भी नया मरीज या घायल व्यक्ति अस्पताल नही लाया गया है.