Earthquake tremors felt in Delhi : देश की राजधानी दिल्ली और इसके आसपास के इलाके में शुक्रवार को शाम भूकंप के झटके महसूस किए गए. दिल्ली में भूकंप शाम करीब 7.00 बजे महसूस किए गए. अब तक एनसीआर के किसी भी हिस्से से जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है. पिछले हफ्ते उत्तर प्रदेश के नोएडा में भूकंप आने के बाद दिल्ली और एनसीआर में झटके महसूस किए गए थे. Also Read - Covid-19: दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 1404 नए मामले सामने आए, चौबीस घंटे में 16 की मौत; 10,667 मरीजों का चल रहा इलाज

नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक भूकंप की तीव्रता रिएक्टर स्केल पर 4.5 थी. वहीं इसका केंद्र गुरुग्राम (हरियाणा) के दक्षिण-पश्चिम में 63 किमी की दूरी पर था. Also Read - यौन-उत्पीड़न हमले की शिकार 12 साल की लड़की की हालत गंभीर, एम्‍स में सर्जरी, ICU में वेंटिलेटर पर

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर लोगों से उनकी सलामती के बारे में पुछा. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “कुछ देर पहले दिल्ली में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए. उम्मीद है आप सभी सुरक्षित है, अपना ख़्याल रखें.” Also Read - कोविड-19: दिल्ली की बसों में कागज का टिकट रद्द, अब मोबाइल के जरिए होगी ई-टिकटिंग

बता दें कि दिल्ली सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पिछले दो महीने में 13 बार भूकंप के झटके लग चुके हैं. लगातार आ रहे भूकंप के पीछे विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले वक्त में यह एनसीआर के लिए बड़े खतरे का संकेत है. लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है. बताया जा रहा है कि दिल्ली-एनसीआर में धरती के अंदर प्लेटों के एक्टिव होने से ऊर्जा निकल रही है, जिससे रह-रहकर झटके महसूस हो रहे हैं.

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (एनसीएस) के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में 12, 13 और 16 अप्रैल को भूकंप के झटके लग चुके हैं. इसी तरह मई में भी भूकंप के झटकों के लगने का सिलसिला जारी रहा. 6, 10, 15 मई और 28 मई को दिल्ली-फरीदाबाद एनसीआर में झटके लगे. इसके बाद 29 मई को दो बार झटके लगे, जिसका केंद्र रोहतक रहा.

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक इस अवधि में राजस्थान में एक, उत्तराखंड में चार और हिमाचल प्रदेश में भी छह बार भूकंप के झटके लगे. हालांकि गनीमत रही कि ये झटकों की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.2 से लेकर 4.5 तक रही. इससे अधिक तीव्रता के झटके लगने पर नुकसान की आशंका रहती है.