नई दिल्ली: 45 साल पुरानी फेयरनेस क्रीम ‘फेयर एंड लवली’ (Fair And Lovely) अपना नाम बदलने जा रही है. इस नाम से कंपनी फेयर (Fair) शब्द हटाएगी. कंपनी ने ये बड़ा फैसला किया है. कंपनी अब ऐसा नाम रखेगी जिसमें अलग-अलग स्किन टोन वाली महिलाओं का प्रतिनिधित्व होगा.Also Read - HUL ने की फेयर एंड लवली' ये 'फेयर' शब्द हटाने की घोषणा, सुहाना खान ने सराहा

हिन्दुस्तान यूनीलीवर (Hindustan Unilever) ने ये क्रीम 1975 में लॉन्च की थी. 45 साल पुराने इतिहास वाली ये क्रीम देश में सबसे अधिक बिकने वाली फेयरनेस क्रीम में से है. महिलाओं को गोरा करने का दावा करने वाली इस क्रीम का फेयरनेस क्रीम के बाज़ार में 70 फ़ीसदी तक हिस्सा है. यानी महिलाओं के बीच ये क्रीम सबसे अधिक पॉपुलर है. Also Read - जीएसके ने 25,480 करोड़ रुपये में बेची हिंदुस्तान यूनिलीवर की 5.7 प्रतिशत हिस्सेदारी

Also Read - अगले 5 सालों में पतंजलि का कारोबार 50 लाख से 1 लाख करोड़ तक पहुंच सकता है: रामदेव

इसलिए नाम बदलने का लिया फैसला
यूनीलीवर ग्लोबल कंज्यूमर कंपनी है. भारत में ये हिन्दुस्तान यूनीलीवर के नाम से है. कंपनी ने कहा कि वह अपनी इस स्किन क्रीम की रिब्रान्डिंग करने जा रही है. कंपनी पर आरोप लगते थे कि वह गोर और गहरे रंग की त्वचा को लेकर भेदभाव और दुराग्रह का आरोप लगता था. इसीलिए कंपनी ने नाम बदलने का फैसला किया है.