Rafale in India Live:: सभी राफेल विमान (Rafale Jets) अंबाला एयरबेस (Ambala Air Force Base) पहुंच चुके हैं. अंबाला एयर बेस पर पहुंचने का पहले जो टाइम सेट था मौसम खराबी होने की वजह से उसमें कुछ देर हुई. सभी विमानों का वायु सेना प्रमुख आर के एस भदौरिया ने स्वागत किया. इससे पहले जब राफेल विमानों ने भारतीय एयर स्पेस में एंट्री की तो INS कोलकाता कंट्रोल रूम ने उनका स्वागत किया. अभी इस बात की कोई जानकारी नहीं दी गई राफेल विमानों लेकर कोई सेरेमनी होगी या फिर नहीं. Also Read - Video: हरियाणवी छोरों को लॉकडाउन तोड़ना पड़ा भारी, पुलिस ने सुबह-सुबह कि‍या ये हाल

सभी राफेल विमानों को दो बजकर 15 मिनट के आस पास पहुंचा था  लेकिन यूएई से टेकऑफ में देरी की वजह से अंबाला पहुंचने में राफेल विमानों को देरी हुई. अंबाला एयरफोर्स बेस पर पहुंचने के बाद पांचों राफेल विमानों ने अंबाला एयर बेस की परीक्रमा की है. लड़ाकू विमानों के इस बेड़े ने सोमवार को फ्रांसीसी बंदरगाह शहर बोरदु के मेरिग्नैक एयरबेस से उड़ान भरी थी. Also Read - फ्रांस से 3 और राफेल मिलने से भारत के पास अब 14 ऐसे फाइजर्स जेट, बढ़ी IAF की हमला करने की क्षमता

सूत्रों की मानें तो 20 अगस्त को राफेल विमानों की सेरेमनी हो सकती है जिसमें प्रधानमंत्री पीएम मोदी शिरकत कर सकते हैं. अभी इस बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है. वायु सेना के दो सुखोई विमान पांचो राफेल विमान को अंबाला एयर फोर्स बेस तक लेकर पहुंचे है.

राफेल विमानों की लैंडिंग को देखते हुए अंबाला एयर बेस के पास धारा 144 लागू लगा दी गई है. आज भारतीय सेना के लिए के गौरव का दिन है. राफेल को लेकर पूरे देश में एक्साइटमेंट है.

प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए हैं. अंबाला एयर बेस से तीन किलेमीटर तक का पूरा इलाका नो फ्लाइंग जोन घोषित किया गया है.  आपको बता दें कि राफेल विमान भारत द्वारा पिछले दो दशक से अधिक समय में लड़ाकू विमानों की पहली बड़ी खरीद है। इन विमानों के आने से भारतीय वायुसेना की युद्धक क्षमता में महत्वपूर्ण रूप से बढ़ोतरी होगी. भारत ने 23 सितंबर 2016 को फ्रांसीसी एरोस्पेस कंपनी दसॉल्ट एविएशन से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59,000 करोड़ रुपये का सौदा किया था.