नई दिल्ली: देश में शुक्रवार को कोविड​​-19 की वजह से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 718 हो गई और संक्रमण के मामलों की संख्या 23,077 तक पहुंच गई। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने डेली बुलेटिन में बताया कि पिछले 24 घंटों में COVID19 के 1684 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं जिसके बाद देशभर में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 23,077 हो गई है. Also Read - केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला- दिल्ली के अस्पताल में दिल्लीवासियों का होगा इलाज, बाहरी लोगों का नही

उन्होंने कहा कि कल से आज तक 491 लोग ठीक हुए हैं, ठीक होने वालों की कुल संख्या 4748 हो गए हैं। मंत्रालय ने बताया कि अब हमारा रिकवरी रेट 20.57% है। वहीं पिछले 28 दिनों से जिन जिलों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है उनकी संख्या भी बढ़कर 15 हो गई है. लव अग्रवाल ने बताया कि देश में 80 जिले ऐसे हैं जिन्होंने पिछले 14 दिनों में कोई नया मामला दर्ज नहीं किया गया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस का समुदाय स्तर पर प्रसार रोकने के लिये हम जिला, राज्य स्तर पर सामुदायिक निगरानी व्यवस्था लागू कर रहे हैं. मंत्रालय ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण मामलों के दोगुनी होने की दर की अवधि अभी 10 दिनों की है. Also Read - अफगानिस्तान के शीर्ष क्रिकेटरों ने काबुल में शुरू किया अभ्यास

वहीं इस दौरान गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि जो क्षेत्र कंटेंनमेंट या हॉट स्पॉट नहीं है वहां 20 अप्रैल से कुछ गतिविधियों की अनुमति दी गई है. लेकिन गलत व्याख्या की वजह से आशंका थी कि फैक्ट्री में कोविड केस मिलने पर फैक्ट्री के CEO को सजा हो सकती है या फैक्ट्री 3 महीने के लिए सील हो सकती है. इसलिए कल गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर स्पष्ट किया है कि 15 अप्रैल को जारी दिशानिर्देशों में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है. Also Read - पब्लिक प्‍लेस पर आईजी मास्‍क पहनना भूल गए, एसएचओ ने किया फाइन, जानें ये सब कैसे हुआ

उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम के अंतर्गत 6 इंटर-मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीमों (IMCT) का गठन किया था, COVID19 की स्थिति को देखते हुए गृह मंत्रालय ने 4 और IMCT का गठन किया है जो अहमदाबाद, सूरत, हैदराबाद और चेन्नई भेजी जा रहीं हैं.