नई दिल्ली: देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या शुक्रवार को 56,342 हो गई है. इसमें से 37,916 कोरोना पॉजिटिव हैं. देश भर में अब तक 16,539 लोगों को विभिन्न अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है, जबकि मरने वालों की संख्या शुक्रवार सुबह तक 1886 हो गयी है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने डेली बुलेटिन में ये जानकारी दी. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले 24 घंटे में, शुक्रवार सुबह आठ बजे तक देश में कोरोना के 3390 नए मामले सामने आए हैं. वहीं इसी दौरान 1273 लोग कोरोना से ठीक हुए हैं. Also Read - स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेषज्ञों का दावा, भारत में इस महीने खत्म हो जाएगी कोरोना महामारी

उन्होंने बताया कि देश में कोरोना मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 29.36 प्रतिशत पहुंच गई है. शुक्रवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक अंडमान-निकोबार, अरुणाचल प्रदेश, गोवा और मणिपुर देश मे कोरोना से मुक्त राज्य बना हुआ है. Also Read - Vande Bharat Mission, Phase 3: टिकटों की मांग में उछाल, एयर इंडिया ने वंदे भारत मिशन के तहत तीसरे चरण की बुकिंग शुरू की

लव अग्रवाल ने बताया कि देश के 216 जिलों में COVID19 के कोई भी सकारात्मक मामले नहीं पाए गए हैं। वहीं 42 जिलों में पिछले 28 दिनों में कोई नया मामला सामने नहीं आया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि 29 जिलों में पिछले 21 दिनों में कोई नए मामले सामने नहीं आए हैं. 36 जिलों में पिछले 14 दिनों में कोई नए मामले सामने नहीं आए हैं. 46 जिलों में पिछले 7 दिनों में कोई नया मामला सामने नहीं आया है. Also Read - WHO Unbelievable Statement: भारत में कोरोनावायरस के तेजी से बढ़ते मामलों पर WHO ने कही ये बड़ी बात, आप भी रह जाएंगे हैरान

इसके अलावा उन्होंने बताया कि रेलवे ने 5231 कोचों को COVID केयर सेंटर के रूप में परिवर्तित किया है। इन कोचों को 215 चिन्हित स्टेशनों पर रखा जाएगा और हल्के और बहुत हल्के मामलों के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.

लव अग्रवाल ने कहा कि डेटा के विश्लेषण के बाद जल्द ही राज्यों को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन की एक संशोधित सूची जारी की जाएगी. उन्होंने कहा कि यदि हम क्या करें और क्या न करें का पालन करेंगे और हम COVID19 मामलों के पीक पर नहीं पहुंच सकते हैं. लेकिन यदि हम आवश्यक सावधानी नहीं बरतते हैं और प्रक्रियाओं का पालन नहीं करते हैं, तो मामलों में बढ़ोत्तरी देखने की संभावना है.

222 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रहा रेलवे, अब तक ढाई लाख लोगों ने उठाया इसका लाभ: गृह मंत्रालय

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि रेलवे ने फंसे हुए लोगों की आवाजाही के लिए 222 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं. अपने डेली बुलेटिन में गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि 2.5 लाख से अधिक लोगों ने इस सुविधा का इस्तेमाल किया है.

इसके अलावा उन्होंने बताया कि भारतीय नेवी के जहाजों और गैर- वाणिज्यिक उड़ानों के माध्यम से विदेशों में फंसे भारतीय नागरिकों की वापसी के लिए प्रक्रिया 7 मई, 2020 से शुरू हो चुकी है. गृह मंत्रालय ने कहा यदि किसी यात्री के वापसी पर लक्षण पाया जाता है, तो उसे चिकित्सा सुविधा में ले जाया जाएगा, अन्य को 14 दिनों के लिए Quarentine किया जाएगा.