नई दिल्ली: गलवान घाटी में तीन नहीं बल्कि 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई ने सरकार के सूत्रों के हवाले से ये बड़ी खबर दी. वहीं, अब भारतीय सेना का भी बयान आया है कि पहले तीन जवान शहीद हुए थे. 17 घायल हुए थे. उनकी भी जान चली गई है. कुल 20 सैनिक शहीद हुए हैं. भारतीय सेना का ये अधिकारिक बयान है. भारतीय सेना की ओर से कहा गया है कि हम अखंडता और संप्रभुता बनाए रखेंगे. जबकि चीन के भी 43 सैनिक शहीद हुए हैं. एलएसी पर शव लेने के लिए चीनी हेलीकॉप्टरों की हलचल की भी खबर है. Also Read - कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से किए 4 सवाल, कहा- क्या भारत के दावे को गलवान घाटी में कमजोर किया जा रहा है?

बता दें कि सोमवार की रात लद्दाख क्षेत्र की गलवान घाटी में चीन और भारत की सेना के बीच संघर्ष हुआ था. पहले कहा गया था कि तीन लोग शहीद हुए, लेकिन 20 जवानों के शहीद होने की पुष्टि हो गई है. पिछले 45 वर्षों में इस तरह की यह पहली घटना है और यह संवेदनशील क्षेत्र में पिछले पांच हफ्ते से चल रहे व्यापक तनाव का संकेत देती है. Also Read - भारत को मिला अमेरिका का समर्थन, माइक पॉम्पिओ बोले- चीन को भारत ने दिया सही जवाब

बता दें कि चीन की सेना ने मंगलवार को आरोप लगाया था कि गलवान घाटी क्षेत्र में भारतीय सैनिकों ने फिर से वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार किया और ‘‘जानबूझकर उकसाने वाले हमले किए’’ जिस कारण ‘‘गंभीर संघर्ष हुआ और सैनिक हताहत हुए.’’ चीन के इस बयान को खारिज करते हुए भारत ने कहा आज ही कहा है कि चीन के एकतरफा प्रयास के चलते हिंसक झड़प हुई. भारत ने मंगलवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प क्षेत्र में ‘‘यथास्थिति को एकतरफा तरीके से बदलने के चीनी पक्ष के प्रयास’’ के कारण हुई.