नई दिल्ली: भारत से तनाव के बीच एक और चीनी कंपनी को बड़ा झटका लगा है. सिग्नलिंग और टेलीकम्यूनिकेशन के एक प्रोजेक्ट का बड़ा कॉन्ट्रैक्ट ख़त्म कर दिया है. रेल मंत्रालय के अधीन काम करने वाले डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया (DFCCIL) ने चीन की कम्पनी नेशनल रेलवे रिसर्च एंड डिज़ाइन इंस्टीट्यूट ऑफ़ सिग्नल एंड कम्युनिकेशन ग्रुप कंपनी लिमिटेड के साथ अनुबंध को समाप्त कर दिया है. DFCCIL ने ये एलान करते हुए इसकी वजह चीन की इस कंपनी की खराब परफॉरमेंस को बताया है. Also Read - नहीं जाएगी रेलवे कर्मचारियों की नौकरी, लेकिन काम बदल सकता है: भारतीय रेल

डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया (DFCCIL) द्वारा 2016 में ये प्रोजेक्ट कानपुर रेलवे स्टेशन से दीनदयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन के बीच सिग्नल और टेलीकम्युनिकेशन के काम के लिए दिया गया था. ये प्रोजेक्ट 471 करोड़ रुपये का था. DFCCIL के अनुसार, चार सालों में सिर्फ 20 प्रतिशत काम ही किया गया. काम की बेहद धीमी प्रगति के चलते ये प्रोजेक्ट वापस लिया गया. Also Read - IRCTC Tatkal Ticket Booking: आज से शुरू हुई ट्रेनों की तत्काल बुकिंग, जानें बुकिंग की टाइमिंग

बता दें कि लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की जान चली गई थी, इसके बाद से दोनों देशों के बीच तनाव है. कई और कंपनियों ने चीनी कंपनियों से रिश्ते ख़त्म करने का ऐलान किया है. भारत सरकार ने सैनिकों पर हमले को लेकर चीन से कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. और चीन को अपने रवैये में सुधार लाने को कहा है.