नई दिल्लीः मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को एक बड़ा झटका लगा है. पार्टी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. मंगलवार सुबह से ही इस बात के कयास लगाए जा रहे थे सिंधिया आज एक बड़ा फैसला ले सकते हैं.  ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपना त्यागपत्र कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को सौपा है. Also Read - भाजपा अध्यक्ष ने कहा- लॉकडाउन में पैदल घर को निकले लोगों की मदद करें पार्टी कार्यकर्ता 

इस्तीफा देने से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गृह मंत्री अमित शाह के साथ जाकर पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और इस मुलाकात के बाद इस बात की गुंजाइश बढ़ गई थी की सिंधिया आज भाजपा में शामिल होंगे. हालांकि दूसरी तरफ कांग्रेस का आलाकमान लगातार सिंधिया को मनाने की कोशिश कर रहा था.

मुख्यमंत्री कमलनाथ के अनबन की खबरों के बीच आज सिंधिया ने पार्टी से इस्तीफा देकर पूरी कांग्रेस पार्टी को एक बड़ा झटका दिया है. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने खुद ट्ववीट करके अपने इस्तीफे की जानकारी दी. सिंधिया ने कहा कि मैं पिछले 18 से पार्टी से जुड़ा हूं लेकिन अब आगे बढ़ने का समय है. उधर कांग्रेस पार्टी ने इस्तीफे के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी विरोधी कार्यों के लिए निष्कासित कर दिया है.

सिंधिया के इस्तीफे के बाद अब मध्य प्रदेश के अलावा महाराष्ट्र, राजस्थान, हरियाणा समेत कई राज्यों के बड़े कांग्रेसी नेता पार्टी का साथ छोड़ सकते हैं. बताया जा रहा है कि आधा दर्जन से अधिक टॉप लीडर्स कांग्रेस आला कमान और राहुल गांधी की कार्यशैली से नाराज हैं.