नई दिल्ली: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में सियासी संकट को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई हो रही है. सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट जल्द से जल्द कराया जाए, की बात तो कही है लेकिन उन्होंने विधायकों के इस्तीफों पर कई सवाल भी उठाए हैं. जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि क्या स्पीकर ने विधायकों द्वारा दिए गए इस्तीफों की जांच की है. Also Read - मध्यप्रदेश के गांव में ‘मुसलमान व्यापारियों का प्रवेश निषेध’ की तस्वीर हो रही है वायरल, जानें क्या है इसकी सच्चाई   

पूर्व CJI रंजन गोगोई बने सांसद, राज्यसभा में शपथ के बीच विपक्षी सांसदों का हंगामा Also Read - मध्यप्रदेश में कोरोना से एक और व्यक्ति ने तोड़ा दम, राज्य में संक्रमितों की संख्या 155 हुई 

मध्य प्रदेश में जारी सियासी संकट के बीच सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा कि राज्य के 16 बागी कांग्रेसी विधायकों के इस्तीफे पर निर्णय ‘एक दिन के अंदर’ लिया जाए. सुप्रीम कोर्ट ने सुझाव दिया कि 16 बागी विधायकों की वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग हो और अदालत इसके लिए एक पर्यवेक्षक नियुक्त करेगी. शीर्ष न्यायालय ने प्रस्ताव देते हुए कहा कि बागी विधायक तटस्थ स्थान पर विधानसभा अध्यक्ष के सामने खुद को पेश कर सकते हैं. Also Read - दिग्विजय सिंह अमर्यादित भाषा वाले आ रहे कॉल्‍स से हुए परेशान, बंद किया मोबाइल फोन

ये है भाजपा की सबसे बड़ी मजबूरी! तभी तो बार-बार अविश्वास प्रस्ताव लाने की चुनौती दे रहे CM कमलनाथ

वहीँ, कांग्रेस (Congress) की ओर से पक्ष रखते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट में कहा कि हमें कम से कम दो हफ़्तों का समय दिया जाए. विधायकों को वापस मध्य प्रदेश आने दिया जाए. जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि वह नहीं चाहते हैं कि खरीद फ़रोख़्त को बढ़ावा मिले. इसलिए जल्दी से जल्दी फ्लोर टेस्ट हो.