नई दिल्ली: कोरोना वायरस संक्रमण के चलते दिल्ली मेट्रो (Delhi metro) का परिचालन मार्च महीने के अंत से बंद है. अगस्त में मेट्रो ट्रेनों का संचालन ठप हुए करीब 4 महीने से अधिक हो चुके हैं. ऐसे में कोरोना वायरस के चलते दिल्ली मेट्रो की वित्तीय स्थिति भी गड़बड़ा गई है. इसके चलते दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने मंगलवार को बड़ फैसला लेते हुए कर्मचारियों के भत्तों में भारी कटौती करने का फैसला किया है.Also Read - UP Election 2022: हम अकेले सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगे AAP के यूपी प्रभारी Sanjay Singh का बड़ा बयान; Exclusive Interview

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने नोटिस जारी कर कहा है कि कई महीने से दिल्ली मेट्रो का संचालन ठप रहने की वजह से कर्मचारियों की सुविधाओं और भत्तों में 50 प्रतिशत की कटौती का फैसला किया गया है. उसने कहा कि मेट्रो सेवाओं के संचालन के बंद होने के चलते उसकी वित्तीय स्थिति पर प्रतिकूल असर पड़ा है. Also Read - Delhi Lockdown News: दिल्ली में नहीं लगेगा लॉकडाउन! 100% चलेंगी बसें और मेट्रो, जानिए गाइडलाइंस

मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने कहा, “मेट्रो सेवाओं के बंद होने के चलते प्रतिकूल वित्तीय स्थिति के मद्देनजर, अगस्त 2020 से सुविधाओं-भत्तों (perks & allowances) को 50% तक कम किया गया है. यह अगस्त 2020 से लागू होगा. बेसिक पे के 15.75 प्रतिशत पर भत्ता मिलेगा. यानी अगस्त की सैलरी में, भत्ते मूल वेतन (बेसिक सैलरी) के 15.75% की दर से देय होंगे.” Also Read - Delhi में नए साल पर कनाट प्‍लेस पर उमड़ी भीड़, राजीव चौक मेट्रो स्‍टेशन के बाहर लंबी लाइनें आईं नजर

इसके अलावा मेट्रो ने कई जरूरी कामों के लिए एडवांस पेमेंट लेने की सुविधा पर भी रोक लगाई गई है.