PM Modi To Address Nation: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) आज शाम 6 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर लिखा, ‘आज शाम 6 बजे राष्ट्र के नाम संदेश दूंगा. आप जरूर जुड़ें.’ प्रधानमंत्री ने हालांकि इस बात की जानकारी नहीं दी है कि वह किस मुद्दे पर देशवासियों को संबोधित करेंगे, लेकिन अनुमान लगाया जा रहा है कि उनका संबोधन देश भर में त्योहारों के मौके पर कोरोनो वायरस की स्थिति को लेकर हो सकता है. देश में जारी कोरोना संकट के बीच पीएम मोदी देशवासियों से ऐहतियात के साथ त्योहारों का मनाने की बात कर सकते हैं. Also Read - Delhi NCR New Rules: दिल्ली से आने वाले यात्रियों के लिए लागू हुए ये नियम, स्थानीय प्रशासन का बड़ा फैसला

पीएम मोदी का यह संबोधन विशेषज्ञ पैनल की उस चेतावनी के बाद हो रहा है जिसमें यह कहा गया था कि त्योहारों के दौरान ढिलाई बरती गई तो हर माह 26 लाख तक नए कोरोना मरीज सामने आ सकते हैं. दो दिन पहले केंद्र सरकार द्वारा गठित विशेषज्ञों के एक पैनल ने चेताया था कि अगर त्योहारों (Festive Season) के दौरान ढिलाई बरती गई तो हर माह 26 लाख तक नए कोरोना मरीज सामने आ सकते हैं.

पैनल का दावा है कि भारत में महामारी का शीर्ष स्तर (पीक) गुजर चुका है. इसके लिए उसने रोजाना आने वाले नए मरीजों की संख्या में कमी का हवाला दिया है. पैनल ने चेतावनी दी है कि अभी देश की 30 फीसदी आबादी में ही कोरोना को लेकर प्रतिरोधी क्षमता (Immunity) पैदा हुई है, ऐसे में कोई भी लापरवाही से सर्दियों में त्योहारों के दौरान फिर से उछाल देखने को मिल सकता है.

उधर, सरकारी पैनल की एक और रिपोर्ट चिंता बढ़ाने वाली है. पैनल ने अंदेशा जताया है कि अगले साल फरवरी तक देश के करीब 50% लोग कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित हो सकते हैं. पैनल के सदस्य और IIT कानपुर के प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल ने कहा, ‘हमारे गणितीय मॉडल का अनुमान है कि वर्तमान में लगभग 30% आबादी संक्रमित है और यह फरवरी तक 50% तक जा सकती है.’

वायरस के मौजूदा प्रसार के लिए समिति का अनुमान केंद्र सरकार के सीरोलॉजिकल सर्वेक्षणों की तुलना में बहुत ज्यादा है. इसमें पता चला है कि सितंबर तक केवल 14 प्रतिशत आबादी संक्रमित थी. लेकिन मनिंद्र अग्रवाल ने कहा कि सीरोलॉजिकल सर्वे शायद इस बात का नमूना नहीं ले सकते कि वे जिस आबादी का सर्वे कर रहे थे, उसके आकार की वजह से सैंपल बिल्कुल सही नहीं है.

बता दें कि देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 76 लाख के बेहद करीब पहुंच गया है और अब तक 1 लाख 15 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.