नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों के साथ एक विस्तृत बैठक की. बैठक में राष्ट्रीय स्तर की स्थिति और महामारी के संदर्भ में तैयारी की समीक्षा की गई. ये जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय ने दी. पीएमओ ने बताया, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने COVID19 महामारी पर प्रतिक्रिया की समीक्षा के लिए वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों के साथ एक विस्तृत बैठक की. बैठक में राष्ट्रीय स्तर की स्थिति और महामारी के संदर्भ में तैयारी की समीक्षा की गई.” Also Read - 'इंडिया ग्लोबल वीक' को कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे संबोधित, वैश्विक दर्शकों के लिए होगा पहला संबोधन

बैठक में दिल्ली सहित विभिन्न राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की स्थिति का जायजा लिया गया. इसमें गृह मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, प्रधान मंत्री के प्रधान सचिव, कैबिनेट सचिव, स्वास्थ्य सचिव, महानिदेशक ICMR और अन्य संबंधित समूहों के संबंधित दल शामिल थे. यह देखा गया है कि कुल मामलों में से दो-तिहाई 5 राज्यों में हैं, जिनमें मामलों का भारी अनुपात बड़े शहरों में है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि विशेष रूप से बड़े शहरों द्वारा सामना की जा रही चुनौतियों के मद्देनजर टेस्टिंग बढ़ाने के साथ-साथ बिस्तर और स्वास्थ्य सेवाओं की संख्या को प्रभावी ढंग से बढ़ाने पर चर्चा हुई. जिससे दैनिक मामलों में शिखर वृद्धि की स्थिति को संभाला जा सके. Also Read - Coronavirus In India Update: 24 घंटे में 482 लोगों की मौत, 22 हजार से अधिक संक्रमित

बैठक में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पर खास फोकस रहा. दिल्ली में कोरोना के बिगड़ते हालात पर भी चर्चा की गई और अगले दो महीने के अनुमानों पर बात हुई. प्रधानमंत्री ने सुझाव दिया कि गृह मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री, केंद्र और दिल्ली सरकार तथा एमसीडी के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आपात बैठक करनी चाहिए ताकि राजधानी में कोरोना के बढ़ते मामलों से कारगर ढंग से निपटा जा सके. Also Read - Coronavirus In India Update: देश में संक्रमितों की संख्या 7 लाख के पार, कुल 20 हजार से अधिक लोगों की मौत

गौरतलब है कि देश में महज 10 दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले दो लाख से बढ़कर तीन लाख के पार हो गए हैं. एक दिन में सर्वाधिक 11,458 मामले सामने आने से शनिवार को संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 3,08,993 हो गए हैं, वहीं संक्रमण से 386 लोगों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 8,884 हो गई.