नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार दोपहर को विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बातचीत करेंगे. प्रधानमंत्री कार्यालय ने यह जानकारी दी है. कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद से प्रधानमंत्री की मुख्यमंत्रियों के साथ यह पांचवीं बैठक होगी. पीएम मोदी की ये मीटिंग कल दिन में 3 बजे होगी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीएम मोदी लॉकडाउन 3.0 से बाहर निकलने की रणनीतियों पर चर्चा करने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कल दोपहर 3 बजे मुख्यमंत्रियों से मीटिंग करेंगे. Also Read - 1998 के बाद पहली बार मूडीज ने घटाई भारत की रेटिंग, कहा- 2020-21 में चार प्रतिशत घटेगी GDP

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये एक बार प्रधानमंत्री मोदी सभी मुख्यमंत्रियों से कोविड संक्रमण के बाद उपजे हालात पर उनकी राय जानेंगे. लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त हो रहा है. माना जा रहा है कि एक बार राज्यों से फीडबैक के बाद ही केंद्र सरकार आगे की रणनीति तैयार करेगी. Also Read - International Sex Workers Day: क्यों मनाया जाता है इंटरनेशनल सेक्स वर्कर्स डे? कोरोना की मार झेल रही हैं भारत की 6,37,500 यौनकर्मी

सूत्रों ने कहा कि चूंकि 17 मई को लॉकडाउन 3.0 समाप्त हो रहा है, ऐसे में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने और कन्टेनमेंट जोन में महामारी से निपटने को लेकर बैठक में चर्चा होगी. गौरतलब है कि इससे पहले कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने कोरोनावायरस संक्रमण के रोकथाम के प्रबंधन में देश की स्थिति की समीक्षा करने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों व स्वास्थ्य सचिवों के साथ बैठक की थी, जिसके बाद अब यह घोषणा की गई है. Also Read - कोरोना: दिल्ली में संक्रमण के मामले 20 हज़ार पार, मरने वालों की संख्या भी 500 से ज्यादा

मुख्य सचिवों ने गौबा को अपने-अपने राज्यों की स्थिति के बारे में अवगत करते हुए कहा कि महामारी से सुरक्षा की आवश्यकता के साथ ही आर्थिक गतिविधियों को भी बड़े पैमाने पर सुधारने की जरूरत है. ऐसे में अब प्रधानमंत्री भी देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा के माध्यम से स्थिति का जायजा लेना चाहते हैं.

इससे पहले भी मोदी ने 27 अप्रैल और 11 अप्रैल को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बैठक की थी. गौरतलब है राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री मोदी की यह पांचवी बैठक होगी. पहली बैठक 2 अप्रैल को हुई थी.