नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित किए गए उपायों की जमकर तारीफ की है. प्रधानमंत्री ने कहा है कि उनके इन उपायों से किसानों की आय बढ़ेगी. दरअसल सरकार ने कृषि एवं इससे जुड़े डेयरी, मछलीपालन, मधुमक्खीपालन और औषधीय खेती जैसे क्षेत्रों के लिये 1.63 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की शुक्रवार को घोषणा की. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना वायरस महामारी से पस्त अर्थव्यवस्था को उठाने के लिये घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज की तीसरी किस्त जारी करते हुए शुक्रवार को एक लाख करोड़ रुपये के कृषि बुनियादी संरचना कोष की घोषणा की. इस कोष से उन परियोजनाओं का वित्त पोषण किया जायेगा, जो फसलों की कटाई के बाद प्रबंधन व भंडारण आदि से संबंधित हैं. Also Read - पश्चिम बंगाल में और छूट और शर्तों के साथ लॉकडाउन की अवधि 15 जून तक बढ़ाई गई

जिसके बाद पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा, “मैं आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित उपायों का स्वागत करता हूं. वे ग्रामीण अर्थव्यवस्था, हमारे मेहनती किसानों, मछुआरों, पशुपालन और डेयरी क्षेत्रों में मदद करेंगे. मैं कृषि में सुधार की पहल का विशेष रूप से स्वागत करता हूं, जिससे किसानों की आय बढ़ेगी.” Also Read - Mann Ki Baat: मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ के एक दिन बाद 'मन की बात' करेंगे पीएम

इससे पहले वित्त मंत्री ने कहा कि इस आर्थिक पैकेज का लक्ष्य कृषि उपज के बेहतर रखरखाव, परिवहन और दूसरी जरूरी बुनियादी सुविधाओं के लिये क्षमता निर्माण को मजबूती देना है. इसके अलावा सूक्ष्म खाद्य इकाइयों, पशुओं के टीकाकरण, डेयरी क्षेत्र, औषधीय खेती, मधुमक्खी पालन और फलों एवं सब्जियों के लिये भी योजनाओं की घोषणा की गयी.

सीतारमण ने कहा कि कृषि बुनियादी संरचना कोष के तहत संग्राहकों, कृषक उत्पादक संगठनों (एफपीओ), प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों, कृषि उद्यमियों और स्टार्टअप को एक लाख करोड़ रुपये के कोष से सहायता उपलब्ध कराई जायेगी. उन्होंने कहा कि जल्दी ही इस कोष का गठन किया जायेगा.