नई दिल्ली: कोरोना वायरस संकट से जूझ रहे भारत के लिए एक अच्छी खबर आई है. शुक्रवार को कृषि मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि इस बार (फसल वर्ष 2019-20 में) खाद्यान्न उत्पादन अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. बयान में कहा गया है कि फसल वर्ष 2019-20 में खाद्यान्न उत्पादन के रिकॉर्ड 295.67 मीट्रिक टन रहने का अनुमान है. जोकि इससे पिछले वर्ष से 10.46 मीट्रिक टन अधिक है. अच्छी नमी के चलते फसल वर्ष 2019-20 में अधिकांश फसलों की पैदावार सामान्य से अधिक रहने की संभावना है. Also Read - पहले किया इनकार, फिर भारत के आगे झुका WHO, Corona के इलाज में शुरू किया Hydroxychloroquine का ट्रायल

कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्‍याण विभाग द्वारा 2019-20 के लिए मुख्‍य फसलों के उत्‍पादन के तीसरे अग्रिम अनुमान 15 मई, 2020 को जारी कर दिए गए हैं. देश में मानसून मौसम (जून से सितंबर, 2019) के दौरान कुल वर्षा दीर्घावधि औसत (एलपीए) से 10 प्रतिशत अधिक रही है. तदनुसार, कृषि वर्ष 2019-20 के लिए अधिकांश फसलों का उत्‍पादन उनके सामान्‍य उत्‍पादन से अधिक होने का अनुमान है. ये अनुमान समय के साथ बहने वाली अधिक सटीक जानकारी के अनुसार संशोधन के अधीन हैं.

तीसरे अग्रिम अनुमानों के अनुसार, 2019-20 के दौरान मुख्‍य फसलों के अनुमानित उत्‍पादन इस प्रकार है:
खाद्यान्‍न – 295.67 मिलियन टन (रिकार्ड)
चावल – 117.94 मिलियन टन (रिकार्ड)
गेहूँ – 107.18 मिलियन टन (रिकार्ड)
पोषक / मोटे अनाज – 47.54 मिलियन टन (रिकार्ड)
मक्‍का – 28.98 मिलियन टन (रिकार्ड)
दलहन – 23.01 मिलियन टन
तूर – 3.75 मिलियन टन
चना – 10.90 मिलियन टन
तिलहन – 33.50 मिलियन टन (रिकार्ड)
सोयाबीन – 12.24 मिलियन टन
रेपसीड एवं सरसों – 8.70 मिलियन टन
मूंगफली – 9.35 मिलियन टन
कपास – 36.05 मिलियन गांठे (१७० किलोग्राम प्रति गांठे) (रिकार्ड)
पटसन एवं मेस्‍टा – 9.92 मिलियन गांठे (१८० किलोग्राम प्रति गांठे)
गन्‍ना – 358.14 मिलियन टन

2019-20 के लिए तीसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार, देश में कुल खाद्यान्‍न उत्‍पादन रिकॉर्ड 295.67 मिलियन टन अनुमानित है जो 2018-19 के दौरान प्राप्‍त 285.21 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 10.46 मिलियन टन अधिक है. तथापि, 2019-20 के दौरान उत्‍पादन विगत पांच वर्षों (2014-15 से 2018-19) के औसत खाद्यान्‍न उत्‍पादन की तुलना में 25.89 मिलियन टन अधिक है.

2019-20 के दौरान चावल का कुल उत्‍पादन रिकॉर्ड 117.94 मिलियन टन अनुमानित है. यह विगत पांच वर्षों के 109.77 मिलियन टन औसत उत्‍पादन की तुलना में 8.17 मिलियन टन अधिक है.

2019-20 के दौरान गेहूँ का कुल उत्‍पादन रिकॉर्ड 107.18 मिलियन टन अनुमानित है. यह वर्ष 2018-19 के गेहूं उत्‍पादन से 3.58 मिलियन टन अधिक है तथा विगत पांच वर्षों के 96.16 मिलियन टन औसत उत्‍पादन की तुलना में 11.02 मिलियन टन अधिक है.

पोषक/मोटे अनाजों का उत्‍पादन रिकॉर्ड 47.54 मिलियन टन अनुमानित है, जो 2018-19 के दौरान प्राप्‍त 43.06 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 4.48 मिलियन टन अधिक है. इसके अलावा, यह औसत उत्‍पादन की तुलना में भी 4.50 मिलियन टन अधिक है.

2019-20 के दौरान कुल दलहन उत्‍पादन 23.01 मिलियन टन अनुमानित है जो विगत पांच वर्षों के 20.82 मिलियन टन औसत उत्‍पादन की तुलना में 2.19 मिलियन टन अधिक है.

2019-20 के दौरान देश में कुल तिलहन उत्‍पादन रिकॉर्ड 33.50 मिलियन टन अनुमानित है जो 2018-19 के दौरान 31.52 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 1.98 मिलियन टन अधिक है. इसके अलावा, 2019-20 के दौरान तिलहनों का उत्‍पादन औसत तिलहन उत्‍पादन की तुलना में 4.10 मिलियन टन अधिक है.

2019-20 के दौरान देश में गन्‍ने का उत्‍पादन 358.14 मिलियन टन अनुमानित है.

कपास का उत्‍पादन रिकॉर्ड 36.05 मिलियन गांठें (प्रति 170 किग्रा की गांठे) अनुमानित हैं जो 2018-19 के दौरान 28.04 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 8.01 मिलियन गांठें अधिक है. पटसन एवं मेस्‍ता का उत्‍पादन 9.92 मिलियन गांठें (प्रति 180 किग्रा की गांठे) अनुमानित हैं.