नई दिल्ली: दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के दो वीजा सहायकों को जासूसी के आरोप में रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है. एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारियों को जासूसी में शामिल होने की वजह से पकड़ा गया और उन्हें देश छोड़ने के लिए बोला गया है. इनका नाम आबिद हुसैन और ताहिर हुसैन है.Also Read - Punjab ke CM: बंटवारे के समय पाकिस्तान में रुके और फिर भारत आकर पंजाब के मुख्यमंत्री बने भीम सेन सच्चर

दोनों पाकिस्तान हाई कमिशन के वीजा सेक्शन में काम करते हैं. खबरों के मुताबिक ये दोनों पाकिस्तानी खूफिया एजेंसी आईएसआई के संचालक हैं. भारत ने उन्हें अस्वीकार्य व्यक्ति घोषित किया है. कल उन्हें भारत छोड़ना है. Also Read - T20 World Cup 2022 Full schedule: फिर होगी भारत-पाकिस्तान के बीच 'हाई वोल्टेज भिड़ंत', यहां जानिए पूरा शेड्यूल

विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि नई दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायोग के 2 अधिकारियों को आज भारतीय कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा जासूसी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण गिरफ्तार किया गया था. सरकार ने उन्हें 24 घंटे के भीतर देश छोड़ने के लिए कहा है. Also Read - Pakistan Blast: लाहौर के अनारकली बाजार में धमाका, 3 की मौत 20 से ज्यादा घायल

विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत ने पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारियों के जासूसी में शामिल होने का पता चलने के बाद पाकिस्तान के प्रभारी को आपत्तिपत्र दिया है. इसके अलावा पाकिस्तान उच्चायोग को यह सुनिश्चित करने को कहा गया कि कूटनीतिक मिशन का कोई भी सदस्य भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल नहीं हो.

नई दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायोग के 2 अधिकारियों, आबिद हुसैन और मुहम्मद ताहिर को एक भारतीय से भारतीय सुरक्षा प्रतिष्ठान के दस्तावेज प्राप्त लेते हुए और उसे पैसे व एक आईफोन सौंपते हुए पुलिस ने रंगे हाथों पकड़ा था. सूत्रों के मुताबिक पकड़े जाने के बाद उन्होंने शुरू में दावा किया कि वे भारतीय नागरिक हैं. उन्होंने नकली आधार कार्ड भी दिखाया. बाद में, पूछताछ के दौरान, उन्होंने कबूल किया कि वे पाकिस्तान उच्चायोग में अधिकारी थे और इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) के लिए काम करते थे.